MP: खेल मंत्री यशोधरा राजे को आया गुस्सा, कहा- स्पोर्ट्स अकादमी नहीं दे रहीं बेहतर नतीजे, प्रदेश के खिलाड़ी राज्य और देश का नाम रोशन कर रहे हैं, लेकिन अपने स्तर पर Bhopal / Madhya_Pradesh

MP: खेल मंत्री यशोधरा राजे को आया गुस्सा, कहा- स्पोर्ट्स अकादमी नहीं दे रहीं बेहतर नतीजे, प्रदेश के खिलाड़ी राज्य और देश का नाम रोशन कर रहे हैं, लेकिन अपने स्तर पर

www.lionnews.in

#Keval K tripathi

भोपाल। मध्य प्रदेश की खेल मंत्री यशोधरा राजे स्पोर्ट्स अकादमी से मिल रहे नतीजे से खुश नही है। उनका मानना हैं कि अकादमी बेहतर कर सकती है। मामला बुधवार का है। मंत्री ने राज्य के खेल अकादमियों पर गहरी नाराजगी जताई हैं। उनका कहना है कि राज्य के खिलाड़ी राष्ट्रीय से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर तक बेहद अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदेश के खिलाड़ी राज्य और देश का नाम रोशन कर रहे हैं, लेकिन अपने स्तर पर। खेल मंत्री यशोधरा राजे ने इंस्टिट्यूशंस को बंद कर देने की चेतावनी भी दी। उन्होने कहा कि इससे उन्हें बनाए रखने से क्या फायदा है? मंत्री राजधानी भोपाल में विभाग की समीक्षा कर रही थीं। 

See More News... 

CM की धर्मपत्नी ने पशुधन के प्रति किया सम्मान और आभार व्यक्त, मनाया गया पोला पर्व : MP

15 सूत्री मांगों को लेकर 52 जिलों में सौपा ज्ञापन : MP

उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि जिन संस्थाओं से अच्छे नतीजे नहीं निकल रहे हैं, उन्हें बंद कर देना ही बेहतर है। उन पर पैसा खर्च करने से अच्छा है कि खिलाड़ियों को और बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। कहा कि सरकार चाहती है कि सभी अकादमियों से अच्छे खिलाड़ी निकलें और राज्य का नाम रोशन करें। समीक्षा बैठक में खेलमंत्री यशोधरा राजे ने कहा कि प्रदेश में विभिन्न अकादमी अॉफ एक्सीलेंस संचालित हो रही हैं। कहा कि जब खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उससे पूरे राज्य और देश का नाम बढ़ता है। राज्य के खिलाड़ी नेशनल के साथ इंटरनेशनल लेवल पर भी पहचान बना रहे हैं। यह गर्व की बात है, लेकिन ऐसा काम अधिकतर खिलाड़ी अपने स्तर पर कर रहे हैं।

 

अकादमी उनकी परफार्मेंस को बेहतर बनाने में अपना योगदान नहीं दे पा रही हैं। खेल मंत्री ने इस दौरान शहर के टीटी नगर स्टेडियम में बन रहे हॉकी अकादमी की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि सरकार चाहती है कि सभी खेलों का समान विकास हो और खिलाड़ियों को आगे बढ़ने का भरपूर मौका मिले। यशोधरा राजे ने कहा कि खिलाड़ियों को निखारने के लिए अकादमी में विशेषज्ञ होते हैं, लेकिन अगर वहां अच्छे नतीजे नहीं आ रहे हैं तो जाहिर है कि जिम्मेदारी से काम नहीं किया जा रहा है।इस दौरान यह भी बताया गया कि मध्य प्रदेश में खिलाड़ियों की डिजिटलाइज्ड मेडिकल फाइल भी बनेगी. इस फाइल में खिलाड़ियों की पर्सनल प्रोफाइल के साथ ब्लड ग्रुप, ब्लड टेस्ट रिपोर्ट, कितने बच्चे कोरोना पॉजिटिव हुए, इंजरी इन सभी रिकॉर्ड्स को मैंटेन किया जाएगा।

Bhopal / Madhya_Pradesh      Sep 08 ,2021 16:25