फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल में प्रदर्शन, सीएम बोले- होगी कार्रवाई / Madhya_Pradesh

फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल में प्रदर्शन, सीएम बोले- होगी कार्रवाई

www.lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इकबाल मैदान में एक समुदाय के लोगों ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन किया। विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुये कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मांग की कि केंद्र सरकार फ्रांस में भारतीय राजदूत को वहां के शासन के मुस्लिम विरोधी रुख के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए कहे। तो वहीं प्रदेश के मुख्यिा सीएम शिवराज ने ट्वीट कर शांति-व्यवस्था भंग करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है।

        कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मैक्रों पर पैगंबर मोहम्मद के आक्रामक कार्टूनों का समर्थन करने और जानबूझकर एक समुदाय विशेष  की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया है। उल्लेखनीय है कि यह पूरा विवाद पेरिस के उपनगरीय इलाके में एक शिक्षक की हत्या के बाद शुरू हुआ, जिसने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून अपने विद्यार्थियों को दिखाए. बाद में उसकी सिर काटकर हत्या कर दी गई. शिक्षक की हत्या के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की ओर से की गई विवादित टिप्पणी को लेकर मुस्लिम देशों के बीच फ्रांस के खिलाफ माहौल बनता जा रहा है। विरोध प्रदर्शनों पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान सख्त रुख अपना लिया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मध्य प्रदेश शांति का टापू है. इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे. इस मामले में 188 प्च्ब् के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा, वो चाहे कोई भी हो। आपको बता दे इससे पहले अॉल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील समुदाय से की है. बोर्ड ने साफ किया कि पैगम्बर के सम्मान की रक्षा करना हमारा दीनी एवं ईमानी कर्तव्य है. उनकी शान में गुस्ताखी बर्दास्त नहीं कि जाएगी। मूहम्मद उमरैन ने कहा कि आए दिन पैगम्बर के बारे में अशोभनीय टिप्पणियों की घटनाएं सामने रही हैं. इससे पहले फ्रांसीसी पत्रिका शार्ली अब्दो ने वर्ष 2006 और 2013 में पैगम्बर के बारे में कार्टून प्रकाशित कर अपमान किया था. उन्होंने कहा कि हाल ही में फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने इस्लाम और मुस्लिमों के खिलाफ भाषण दिया और फ्रांस के विभिन्न भवनों पर ईश निंदा के निशान लगाए गए. उन्होंने कहा कि ये किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. उन्होंने मुस्लिम समुदाय से अपना विरोध दर्ज कराने के लिये फ्रांस के सामान का बहिष्कार करने की अपील की.

/ Madhya_Pradesh      Oct 30 ,2020 13:35