देश का यह बावा 7 बार मौत के मुंह से बाहर निकला, जानियें जिन्दा बाबा की कहानी / Madhya_Pradesh

देश का यह बावा 7 बार मौत के मुंह से बाहर निकला, जानियें जिन्दा बाबा की कहानी

www.lionnews.in

पैरालाइसिस के अटैक से बचना मौत के मुंह से निकलने जैसा ही था। एक निजी पोर्टल और वेब चैनल की एक रिपोर्ट के मुताबिक शारीरिक स्टेमिना और लचीलेपन के लिए बचपन में रामकृष्ण कहे जाने वाले बाबा रामदेव 25 फुट ऊंची इमारत से गिर गए थे और उनके माथे पर 7 टांके लगे थे। यही नहीं एक बार वह भैंस चराते हुए उसकी पूंछ पकड़े हुए गहरे तालाब में चले गए और एक ग्रामीण ने उन्हें डूबने से बचाया था। यही नहीं एक बार वह हल जोत रहे थे तो कुछ परिजनों ने उन पर हमला कर दिया था। इसमें वह बाल-बाल बचे थे। दरअसल पारिवारिक विवाद में कुछ लोग उनकी मां से बुरा बर्ताव करते थे, जिसका विरोध करने पर उन पर यह हमला हुआ था। एक बार उन्हें करीब 50 लोगों की हिंसक भीड़ ने घेर लिया था। इस दौरान उन्होंने अपनी खड़ाऊं उतार ली थी और उसके जरिए अपना बचाव किया था।

Read More...

विधानसभा अध्यक्ष ने रचना नगर टॉवर के आवासों का निरीक्षण कर दिए शीघ्र आधिपत्य के निर्देश

17 मोटरसाइकिल के साथ, पुलिस ने पकड़ा वाहन चोर गिरोह... जानियें कहा का है मामला

वन विभाग का उड़नदस्ता प्रभारी कर रहा वैध को अवैध बता कर वसूली

रायसेन नगरीय निकायों में संचालित योजनाओं की समीक्षा बैठक आज

1 नेशन-1 राशन कार्ड, जारी की जायेगी भोपाल जिले में पात्र परिवारों और सदस्यों की पात्रता पर्ची

PTS उज्जैन द्वारा चाईल्ड पोर्नोग्राफी रेप एण्ड गैंग रेप इमेजरी पर तीन दिवसीय आनलाइन प्रशिक्षण प्रारंभ

 

सूरत की स्थिति हुई बद से बदतर- कोरोना पर बीजेपी सरकार, सूरत प्रशासन की खिंचाई कर बोला गुजरात हाई कोर्ट

एक अन्य घटना में वह खुद बताते हैं कि एक बार वह आर्सेनिक के जरिए अस्थमा का इलाज कर रहे थे और गलती से उन्होंने उसी बर्तन में दूध उबाल लिया था। आर्सेनिक शरीर में जाने के चलते उन्हें उल्टियां आने लगीं और फिर अस्पताल ले जाना पड़ा। बाबा रामदेव कहते हैं कि यह आखिरी मौका था, जब उन्हें अस्पताल जाना पड़ा था। वह कहते हैं कि इसके बाद उन्होंने आर्सेनिक का इस्तेमाल बंद कर दिया और जहर को बाहर निकालने के लिए आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल किया। गौरतलब है कि बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद की ओर से हाल ही में कोरोनिल नाम से एक दवा लॉन्च की गई थी, जिससे कोरोना के ठीक होने का दावा किया गया था। हालांकि विवाद के बाद पतंजलि ने इस दवा को इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर बेचने का फैसला लिया है। बता दें कि कोरोना काल के दौरान जून तिमाही में बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के मुनाफे में 40 पर्सेंट का इजाफा हुआ है।

 

/ Madhya_Pradesh      Aug 07 ,2020 04:52