जो भाषा बीजेपी सरकार की थी वही भाषा बोल रही कांग्रेस सरकार, 5000 अतिथि विद्वानों ने भारी कमलनाथ सरकार के खिलाफ हुँकार / Madhya_Pradesh

जो भाषा बीजेपी सरकार की थी वही भाषा बोल रही कांग्रेस सरकार, 5000 अतिथि विद्वानों ने भारी कमलनाथ सरकार के खिलाफ हुँकार

@lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के शाहजहांनी पार्क में 5000 अतिथि विद्वानों ने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार के खिलाफ हुँकार भारी है। अतिथि विद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के संयोजक डॉ देवराज सिंह ने कहा है कि कैबिनेट का अतिथि विद्वानों के संबंध में लिया गया  निर्णय हमारे हितों के सर्वथा प्रतिकूल है। हमारी मांग केवल अतिथि विद्वानों का नियमितीकरण है। इससे कम हमें कुछ भी स्वीकार नही है। जो भाषा बीजेपी सरकार की थी। कांग्रेस सरकार भी आज वही भाषा बोल रही है। सरकार यदि अपने वादे की पक्की है तो पहले हमारे नियमितीकरण की नीति बनाई जाए।

विद्यार्थियों ने की अपने शिक्षकों के नियमितीकरण की मांग

मोर्चा के डॉ जेपीएस चौहान डॉ आशीष पांडेय के अनुसार नियमितीकरण की राह पर हमें आज अपने विद्यार्थियों का भी साथ मिला है। कई महाविद्यालयों के विद्यार्थियों ने आज शाहजहानी पार्क आकर अतिथि विद्वानों की मुहिम का समर्थन करते हुए सरकार से अतिथि विद्वानों के नियमितिकरण की मांग की। विद्यार्थियों का कहना है कि सरकार यदि हमारे शिक्षकों की मांगें नही मानती तो आगे हम भी सड़कों पर उतरकर सरकार से नियमितीकरण की मांग करेंगे। वरिष्ठ अतिथि विद्वान बीएल दोहरे कहते है कि आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार अपने वचनपत्र में लिये वादे को पूरा नहीं कर देती याने हमे नियमितकरण का आदेश दे।

Read More....

कड़ाके की ठंड में महिलाओं, बच्चों ने बिताई रात

शाहजहानी पार्क में दिसंबर माह की कड़ाके की ठंड में महिला अतिथि विद्वान अपने बच्चों सहित मोर्चे पर डटी हुई है। उल्लेखनीय है कि कड़ाके की ठंड में रात में गिरती ओस की बूंदों के नीचे महिला अतिथि विद्वान अपने बच्चों के साथ रात गुज़ार रही है। जाती हुई नौकरी का दुख, तनाव और बेचैनी इस हद तक हावी है कि महिलाएं कड़ाके की ठंड में भी वापस घरों को जाने को तैयार नही है।

उग्र हो सकता है अतिथि विद्वानों का आंदोलन

अतिथि विद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के डॉ सुरजीत भदौरिया ने कहा है कि अतिथि विद्वानों अपने भविष्य को खामोशी से बर्बाद होते नही देख सकते। हम शांत नही बैठेंगे। नौकरी जाने से अतिथि विद्वान बेहद तनावग्रस्त एवं आक्रोशित हैं। खराब माली हालात और अनिश्चित भविष्य ने अतिथिविद्वानों को इस हद तक आक्रोशित कर दिया है कि अब वे आर पार की लड़ाई के मूड में हैं।

/ Madhya_Pradesh      Dec 11 ,2019 14:44