अतिथि विद्वान कमलनाथ सरकार से नाराज, हजारों की संख्या में आज पहुच रहे भोपाल / Madhya_Pradesh

अतिथि विद्वान कमलनाथ सरकार से नाराज, हजारों की संख्या में आज पहुच रहे भोपाल

भोपाल। मध्य प्रदश्ेा की कमलनाथ सरकार से अतिथि विद्वान खासे नाराज है। अतिथि विद्वान के परिवारों में अब रोजी रोटी का संकट आ गया है। पिछले दो दशकों से अध्यापन कार्य करने वाले अतिथि विद्वान कांग्रेस सरकार की वादाखिलाफी के विरोध में आंदोलित शाहजहांनी पार्क में करने जा रहा है। भोपाल में आज से हजारों की संख्या में अतिथि विद्वान धरना देगें। 

    अतिथि विद्वान का प्रदेश के मुख्यमंत्री के क्षेत्र से शुरू हुआ यह आंदोलन आज भोपाल पहुचने जा रहा है। राजधानी में पूरे प्रदेश से अतिथि विद्वानों ने पहुचना शुरू कर दिया है। प्रशासन ने तीन दिन की अनुमति इनके इस आंदोलन को दी है। अतिथि विद्वान अपने भविष्य की सुरक्षा के लिये भविष्य सुरक्षा यात्रा निकाल रहे है। अतिथिविद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के संयोजकद्वय डॉ देवराज सिंह और डॉ सुरजीत भदौरिया ने कांग्रेस सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा है कि हममें से अधिकतर साथी यूजीसी की निर्धारित योग्यता पूर्ण करते हुए पिछले कई वर्षों से अध्यापनरत है। सरकार ने हमें नियमितीकरण का वचन दिया था। किंतु अब हमें नौकरी तो दूर बची हुई दिहाड़ी नौकरी भी छीन लेने का षड्यंत्र कर रही है। अब तक सहायक प्राध्यापक परीक्षा के लगभग 850 तथाकथित चयनितों को नियुक्ति पत्र जारी किए जा चुके है। जिससे लगभग इतने ही अतिथि विद्वान साथी सेवा से बाहर हो चुके हैं। इससे अतिथिविद्वानों में सरकार के प्रति भारी आक्रोश और असंतोष व्याप्त है।

यात्रा में शामिल है महिलाएं और बच्चे

अतिथिविद्वानों में बेचैनी और घबराहट का आलम यह है कि महिला अतिथिविद्वान अपने बच्चों सहित यात्रा में साथ चल रही है। कई महिला विद्वानों ने मीडिया से बात करते हुए भावुक होकर कहा कि अब हमारे जीवन यापन  का कोई सहारा नही रहा। कांग्रेस के वचनपत्र से हम सब आशा लगाए बैठे थे। किन्तु वह वादा भी झूठा होता प्रतीत हो रहा है। किंतु अतिथिविद्वानों ने अब भी आशा लगाए रखी है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ जरूर हम सब के भविष्य को बर्बाद होने से बचा लेंगे। कड़ाके की ठंड में महिला विद्वानों एवं छोटे बच्चों को अत्यधिक कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।

/ Madhya_Pradesh      Dec 09 ,2019 16:43