नकली खाद, बीज और कीटनाशक की मिल रही शिकायतों के बाद कलेक्टर भोपाल ने की 11 विक्रेताओं की जाँच / Madhya_Pradesh

नकली खाद, बीज और कीटनाशक की मिल रही शिकायतों के बाद कलेक्टर भोपाल ने की 11 विक्रेताओं की जाँच

@lionnews.in

भोपाल। कलेक्टर तरूण पिथोड़े के निर्देशन में खाद्य-बीज उर्वरक और कीटनाशक के 11 विक्रेताओं के यहाँ निरीक्षण किया गया। निरीक्षण उपरांत उर्वरक के सेम्पल के 5 नमूनेए कीटनाशक के 5 और बीज के 1 नमूने लिये गये हैं।    जिले में अमानक/नकली उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक बेचने वालों पर कीटनाशक अधिनियम 1986 एवं नियम 1971, उर्वरक (नियंत्रण) आदेश 1985 एवं बीज (नियंत्रण) आदेश 1983 के विभिन्न प्रावधानों के अंतर्गत जाँच की जा रही है।

   उल्‍लेखनीय है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ की मंशा एवं किसान कल्याण तथा कृषि विकास सचिन यादव के निर्देशानुसार पूरे प्रदेश में उर्वरक, बीज एवं कीटनाशकों की शुद्धता की जाँच के लिए 15 से 30 नवम्बर 2019 तक विशेष अभियान, किसान कल्याण तथा कृषि विकास मध्यप्रदेश शासन द्वारा चलाया जा रहा है।

बिना जांच के बिक रहा था खाद-बीज

पिछले कई सालों से मध्यप्रदेश के कृषि विभाग ने खाद-बीज विक्रय केंद्रों पर जांच के नाम पर औपचारिकता की पूर्ति की जा रही थी। जबकि इसकी जांच हर साल की जाती है। फिर भी फसल खराब होने के चलते हजारों किसानों ने अपनी जांन दे दी। बाजार में अंकुरित बीज जांच के बिना ही बेच दिया गया है। वहीं दूसरी ओर बाजारों में नकली खाद भी महंगे दामों पर बिना जांच के बेचा जा रहा है। कई फर्जी लोग क्षेत्र में नकली खाद, बीज बेचकर किसानों को चूना लगाकर गायब हो गए थे। इसी तरह नकली दवाई के कारण भी किसानों को फसल चैपट होने का नुकसान उठान पड़ा था। इससे किसानों को खासा नुकसान हुआ था। इसके खिलाफ किसानों ने कार्रवाई को लेकर ज्ञापन भी दिए थे, लेकिन कुछ नहीं हो सका।

तीन बार करनी पड़ी थी बोवनी

कांग्रेस को किसानों ने पिछलें कई सालों से नकली बीज नकली खाद और नकली कीटनाशन मिलने की जानकारी दी थी। कांग्रेस के सरकार में आते ही शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाया जा रहा पिछली सरकार के समय कई किसानों को तीन-तीन बार बोवनी करनी पड़ी थी। इसके बाद भी ठीक से उत्पादन नहीं हो पाया था। इसके बाद भी कृषि विभाग द्वारा तो किसी खाद बीज विक्रेता की दुकान से सेंपल लिए थे ओर ही किसी प्रकार की कार्रवाई की गई थी। इस संबंध में किसान तेज सिंह का कहना है कि पिछले वर्ष कई लोगों ने खराब बीज किसानों को महंगे भाव पर बेच दिया जो बाद में अंकु रित नहीं हुआ था। जिसकी हम लोगों ने लिखित में शिकायत भी की थी।

/ Madhya_Pradesh      Nov 19 ,2019 16:17