महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, BJP को 48 घंटे दिए, शिवसेना को सिर्फ 24 घंटे / delhi

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, BJP को 48 घंटे दिए, शिवसेना को सिर्फ 24 घंटे

 

@lionnews.in

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है। यहा राजनीतिक संकट गहरा गया है। इस मसले को लेकर शिवसेना सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर पहुच गई है। शिवसेना ने राज्यपाल द्वारा महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश करने के फैसले को चुनौती दी है। शिवसेना ने कहा है कि उसने छब्च् और कांग्रेस से समर्थन पत्र हासिल करने के लिए तीन दिन का समय मांगा था। लेकिन राज्यपाल ने खारिज कर दिया. शिवसेना का कहना है कि राज्यपाल ने बीजेपी को यह बताने के लिए 48 घंटे का समय दिया कि क्या वह सरकार बना सकती है लेकिन  समर्थन पत्र हासिल करने के लिए शिवसेना को सिर्फ 24 घंटे का समय दिया।

 

शिवसेना ने आरोप लगाया कि राज्यपाल ने सरकार बनाने के अवसर से इनकार करने के लिए बीजेपी के इशारे पर जल्दबाजी में काम किया। शिवसेना ने याचिका में कहा है कि राज्यपाल ने इस मामले में फास्ट फार्वड तरीके से काम किया है। राज्यपाल का शिवसेना को वक्त न देने का 11 नवंबर का फैसला अंसवैधानिक, मनमाना, अवैध और समानता के अधिकार का उल्लंघन है। शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया है कि वह सरकार बनाने के लिए उसे वाजिब समय देने का निर्देश जारी करे।

            गौरतलब है कि महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन के लिए राज्‍यपाल की सिफारिश को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। अब यह मंजूरी के लिए राष्‍ट्रपति के पास भेजी जा रही है। इससे पहले प्रसार भारती ने अपने सूत्रों के हवाले से खबर दी थी कि महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश कर दी गई है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री के विदेश दौरे से पहले हुई कैबिनेट बैठक में महाराष्‍ट्र के मुद्दे पर चर्चा हुई और राज्‍यपाल की सिफारिश को मान लिया गया. हालांकि इससे पहले जब एनसीपी नेता नवाब मलिक से सवाल किया गया कि राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन लगाए जाने की सिफारिश की गई है। तो उनका कहना था कि राजभवन से इस पर खुलासा आ गया है कि ऐसी कोई सिफारिश नहीं की गई है।

 

/ delhi      Nov 12 ,2019 16:10