वन उड़नदस्ते को सुबह से थी सागौन के शहर में आने की ख़बर BHOPAL / Madhya_Pradesh

वन उड़नदस्ते को सुबह से थी सागौन के शहर में आने की ख़बर

@lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में इन दिनों शिकार का मांस हो या सागौन बड़ी तेजी से शहर में आ रही है। सागौन की आवक इतनी हो रही है कि कई नये फर्नीचार के कारखाने शहर में शुरू हो गये हैं। शादी के सीजन की शुरूआत होने से पहले लकड़ी का सामान तैयार किया जा रहा है। वन विभाग का उड़नदस्ता फिलहाल गहरी नींद में हैं। ताजा मामला परवलिया थाना क्षेत्र में पुलिस द्वारा पकड़ी गई आयशर गाड़ी में भरी सागौन पर उठते वन उड़नदस्ते की मंशा पर सवालों का है। 

इसे भी पढ़े :- वन उड़नदस्ते का काम कर रही भोपाल पुलिस, पकड़ाई लाखों की गीली सागौन

 परवलिया पुलिस ने रविवार को 38 नग गीली सागौन की एक गाड़ी शहर में आने से ठीक पहले पकड़ ली थी। लॉयन न्यूज को उड़नदस्ते के सुत्र से मिली जानकारी के अनुसार इस गाड़ी की जानकारी उड़नदस्ते को सुबह से थी। सूत्र की माने तो शहर में सागौन की एक बड़ी खेप उतरने बाली है यह उड़नदस्ते की टीम के कुछ लोग जानते थें। टीम के एक सदस्य ने लॉयन न्यूज को बताया कि उनको गाड़ी का नम्बर डीएल1- 0830 मिला था। आयशर गाड़ी में 8 को इस तरह से खराब किया गया था कि वह नम्बर को देखने में 6 भी लगें। जानकारी यह भी थी कि सागौन की गाड़ी किस रोड़ से आने की सम्भावना है। सूत्र ने बताया कि सुबह से उड़नदस्ता बड़ें दमखम के साथ अपना काम पर लगा था। लेकिन जिस रोड़ से गाड़ी को आना था उसके ठीक विपरीत दिशा में उड़नदस्ता अपनी मुस्तेदी दिखा रहा था। सीधे मायने में सिर्फ काम को बेहद इमानदारी से करने का दिखावा कर रहा था। जबकि मंशा कुछ और ही थी। सूत्र का कहना है कि पुलिस गाड़ी नहीं पकड़ती तो रविवार को ही दीवाली बन जाती। 

आपको बता दे वन विभाग का उड़नदस्ता हर माह डीजल व अन्य सामानों पर लाखों का खर्च विभाग से करा रहा है। लेकिन उड़नदस्ते की सफलता सिर्फ इतनी है कि कभी दो मुॅह का सांप तो कभी कछूआ तो कभी कुछ अन्य पकड़कर अपनी ही पीठ थप थपाता रहा है। विभाग ने जब से शहर की सीमा पर लगे बेरियर खत्म कियें है उड़नदस्ते में कुछ लोगों की मनमानी चरम पर है। वहीं भोपाल पुलिस उड़नदस्ते का महत्वपूर्ण काम कर रही है। ऐसे में लाखों का खर्च उड़नदस्ते पर विभाग करके सिर्फ हाथी पाल रहा है। 

BHOPAL / Madhya_Pradesh      Oct 15 ,2019 17:34