एम्स भोपाल तैयार करेगा मैन पावर, जो रोकेगी जैविक युद्ध और परमाणु हमले से होने वाली जनहानि को / Madhya_Pradesh

एम्स भोपाल तैयार करेगा मैन पावर, जो रोकेगी जैविक युद्ध और परमाणु हमले से होने वाली जनहानि को

 

@lionnews.in

भोपाल। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान याने एम्स भोपाल ने देश को जैविक युद्ध और परमाणु हमले से जनहानि को बचाने के लिये एक कोर्स तैयार किया है। एम्स भोपाल के निदेशक प्रो. (डॉ) सरमन सिंह को अपनी सेवाये देते हुए एक साल हो गया है। डॉक्टर सिंह ने मीडिया से अपने अनुभव, उपलब्धियों को साझा करते हुए भविष्य की योजनाओं की जानकारी दी।

      उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने  जैविक युद्ध और परमाणु हमले  में जनहानि रोकने के लिए खास ट्रेनिंग देकर मैन पावर तैयार करने का प्लान बनाया है। जिसके तहतकैमिकल-बायलोजिकल-रेडियोंलोजिकल-न्यूक्लियर एवे एक्सप्लोजिव (सीबीआरएनई) डिजास्टर संबंधी छःमाही चिकित्सा प्रबंधन स्नातकोत्तर प्रमाण पत्र कोर्स विद्यार्थियों के लिए तैयार किया यह कोर्स इन्मास, DRDO तथा इग्नू के सहयोग से नियमित तथा पत्राचार के माध्यम से प्रारंभ किया जायेगा। रक्षा अनुसंधान विकास संगठन यानी डीआरडीओ और एम्स भोपाल मिलकर छह माह का एक कोर्स तैयार किया है। यह कोर्स भोपाल एम्स और डीआरडीओ इग्नू की सहायता से चलाएंगे।  इसके अलावा उन्होंने लाइफ सर्पोट एम्बुलेन्स की सेवा, एम्स भोपाल नेशनल नॉलेज नेटवर्क (एनकेएन) से जुड़े देश के सभी 52 चिकित्सा महाविद्यालयों के साथ चिकित्सा शिक्षा को साक्षा करने और संस्थान में स्थापित ट्रान्सलेशनल चिकित्सा केन्द्र के कार्य क्षेत्र पर प्रकाश डाला। प्रो. (डॉ) सरमन सिंह ने बताया कि इसके द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं संबंधित चुनौतियों को समाप्त किया जा सकता है इसके अन्तर्गत डिवाइस डेवलपमेन्ट, डायगोनेास्टिक डेवलपमेन्ट्स, न्यू मोलक्यूल्स, टीका विकास आदि को आर्टीफिशियल इन्टेलीजेन्ट्स के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है। 

           अनुसंधान गतिविधियों में वृद्धि लाने के लिए संस्थान द्वारा अंशकालिक आधार पर प्रयोगशाला सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। एम्स भोपाल में क्षेत्रीय वायरोलॉजी प्रयोगशाला (आरवीएल) तथा टीबी प्रयोगशाला प्रारंभ की गई है जो कि राज्य में अपनी तरह की पहली प्रयोगशाला होगी। उन्होंने भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए बताया कि एम्स भोपाल में ज्लद ही 960 विस्तरों को उपलब्ध कराने, संस्थान में 305 सम्पूर्ण संकाय पदों और गैर-संकाय स्टाफ की भर्ती सुनिश्चित करना और एनजीओं के माध्यम से परिसर में पौधारोपण कराने जैसी बाते पर प्रकाश डाला है। मीडिया से वार्ता के दौरान डॉ. अरनीत अरोरा, डीन (एकेडमिक्स), डॉ. मनीषा श्रीवास्तव, चिकित्सा अधीक्षक, संतोष सोहगौरा, उप निदेशक (प्रशासन), समस्त डीन, विभागाध्यक्ष, जितेन्द्र सक्सेना, अधीक्षण अभियंता, बेनी आब्रह्म, रजिस्ट्रार, गौरव द्विवेदी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी, सौम्या एनी त्रिपाठी, निदेशक महोदय की प्रधान निज सचिव, नागेन्द्र सारस्वत, अधिशासी अभियंता, मतीन अहमद, लेखा अधिकारी, महिपाल, सहायक प्रशासनिक अधिकारी, समस्त डीन, संकाय सदस्य और अधिकारी भी उपस्थित रहे।

 

/ Madhya_Pradesh      Jun 04 ,2019 17:40