औपचारिक बनकर रह गया स्वच्छता अभियान, उपयोग लायक नहीं शौचालय Damoh / Madhya_Pradesh

औपचारिक बनकर रह गया स्वच्छता अभियान, उपयोग लायक नहीं शौचालय

दमोह - जनपद पंचायत पथरिया के गांवों में स्वच्छता अभियान चलाकर घरों में शौचालय बनाने के लिए की जो राशि जारी होती है कि उसमें अनियमितता की जा रही है।यही कारण है कि गांवों में स्वच्छ भारत अभियान के तहत बने शौचालय उपयोग के लायक ही नहीं है। तस्वीरों में इसका उदाहरण आप देख सकते हैं जो कि ग्राम पंचायत सेमरा लखरोनी के ग्राम कोडरमणि में निर्मित शौचालय का है जिसका निर्माण कागजों में पूर्ण हो राशि तो निकाल ली लेकिन उपयोगी न हो सका। जनपद पंचायत के अंतर्गत ज्यादातर ग्राम पंचायतों में शौचालय अनुपयोगी साबित हो रहे हैं खुले में शौचमुक्त कराने के लिए देश में समग्र स्वच्छता अभियान चलाया गया और दमोह जिला ओडीएफ भी घोषित कर दिया गया। इसके तहत घर -घर शौचालय का निर्माण भी हुआ लेकिन ज्यादातर कागजों पर ग्रामीण क्षेत्रों में बने शौचालय इतने घटिया है कि अनुपयोगी साबित हो रही है। यहां बने शौचालय इतनी घटिया है कि उपयोग करने ही लायक नहीं है और जर्जर हालत में पहुंचते जा रहे हैं दरअसल इसके निर्माण में मिट्टी मिली रेत का इस्तेमाल हुआ है इससे यह मजबूती प्रदान नहीं कर पा रहे हैं कहीं तो बिना गड्ढे के ही सीट लगाकर उसकी फोटो खींच कर पूरा करा दिया अधिकारियों के निरीक्षण न करने के कारण ग्राम पंचायत मिलीभगत से यह निर्माण किया गया है
Damoh / Madhya_Pradesh      May 29 ,2019 12:19