दबंगई के चलते हो रहा खुलकर आचार संहिता का उल्लंघन जानियें कहा का है मामला / Madhya_Pradesh

दबंगई के चलते हो रहा खुलकर आचार संहिता का उल्लंघन जानियें कहा का है मामला

@lionnews.in

दमोह। लोकसभा चुनाव 2019 में चुनाव आयोग है ऐसा है तो लेकिन लगता नहीं है। मोदी की सरकार बनने के बाद ऐसा देश में पहली बार हो रहा है। जब चुनाव आयोग को हाने के प्रमाण मांगे जा रहे है। आचार संहिता का उल्लंघन जैसे आम बात हो गई है। लोकसभा चुनाव में सरकारी कर्मचारियों द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन जैसे मामले आये दिन सुनने को मिल रहे है। ताजा मामला मध्यप्रदेश के दमोह जिले का है जहां पुलिस कर्मी खुलेआम बीजेपी का प्रचार पोस्टर के माध्यम से कर रहे हैं।

कांग्रेस नेता को उकसाने के लिए बीजेपी प्रवक्ताओं को मिली ट्रेनिंग

 

जनता को दिखता हैं लेकिन नहीं दिखतें . . . आम चुनाव में कहा है आम मुद्दे

दमोह में आचार संहिता का उल्लंघन आम बात हो गई है। क्योकि यहां कभी पुलिस कर्मी भाजपा का खुलेआम प्रचार करते दिखाई देते हे तो कभी जिला पंचायत सीईओ प्रधानमंत्री आवास योजना का खुले आम सर्वे करवाकर आचार संहिता का उल्लंघन करते हैं। और इन सब के बावजूद चुनाव अधिकारी मौन व्रत धारण किये हुए हैं। आपको बता दें कुछ दिन पहले जिला पंचायत सीईओ की शिकायत तो कांग्रेस ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी भोपाल को भी पत्र लिखकर की थी।लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ उल्टा इसी तरह आचार संहिता का उल्लंघन दमोह के पटेरा जनपद पंचायत में भी देखने को मिला है। यहां जनपद पंचायत कार्यलय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कैलेंडर लटकता दिखाई दे रहा है जिसे हटाने की हिम्मत अधिकारियो में नहीं है। ज्ञात हो कि पटेरा जनपद पंचायत अध्यक्ष बद्री पटेल का कार्यालय भी इसी परमाइसेस में है और बद्री पटेल भाजपा के कद्दावर नेता माने जाते हैं। इसलिए उनसे पंगा लेने की हिम्मत किसी सरकारी कर्मचारी में नहीं है। इस मामले में जब मीडिया ने पटेरा तहसीलदार से बात की तो उन्होंने कहा कि जल्द ही इस विषय में कार्यवाही की जाएगी।

/ Madhya_Pradesh      Apr 26 ,2019 10:33