और अब एमपी में पेंशन घोटाला, बढा़ सकता है बीजेपी की मुश्किल! / Madhya_Pradesh

और अब एमपी में पेंशन घोटाला, बढा़ सकता है बीजेपी की मुश्किल!

@lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश की विधानसभा में कांग्रेस विधायक ड़ॉ गोविन्द सिंह ने कई बार इंदौर के पेंशन घोटाला की जांच रिपोर्ट टेबल पर रखने की बात की थी। लेकिन उस जांच को तत्कालीन बीजेपी सरकार ने ऐसा होने नहीं दिया। 2008 में इंदौर के महापौर रहते हुए कैलाश विजयवर्गी के कार्यकाल में हुए इस घोटाले की जांच बताती है कि इसमें कई भाजपा नेताओं के हाथ काले हुए है। कांग्रेस इस घोटाले को फिर से जनता के सामने आने ओश्र दोषियों को उनकी सही जगह पहुचाने की बात कर रही हे। याने बीजेपी की मुश्किले अब बढ़ सकती है। 

        जस्टिस एसके जैन की पेंशन घोटाला रिपोर्ट को कांग्रेस सरकार अब सार्वजनिक करने के मूड में है. ई- टेंडरिंग घोटाला, पत्रकारिता विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार और सहकारिता घोटाले के बाद कांग्रेस सरकार ने चर्चित इंदौर के पेंशन घोटाले की फाइलें खोलने की तैयारी कर ली है. कांग्रेस सरकार पेंशन जांच घोटाला मामले में जस्टिस एसके जैन की रिपोर्ट को अब सार्वजनिक करने के मूड में है. दरअसल, प्रदेश के मंत्री गोविंद सिंह के मुताबिक एसके जैन की रिपोर्ट में पेंशन घोटाला होने और उसमें बीजेपी से के नेता कैलाश विजयवर्गीय को दोषी माना गया है. सरकार अब जांच आयोग की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने के साथ ही दोषी नेता और अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करेगी. बता दें कि कैलाश विजयवर्गीय इंदौर लोकसभा सीट से बीजेपी के दावेदारों में से एक हैं. हालांकि बीजेपी ने अभी उनके नाम का ऐलान नहीं किया है. अब कांग्रेस जैन आयोग की रिपोर्ट के जरिए कैलाश विजयवर्गीय की घेराबंदी करने की कोशिश में है। कांग्रेस सरकार ने सामाजिक न्याय विभाग में लंबित जांच आयोग की रिपोर्ट को तलब किया है. राज्य सरकार एनके जैन आयोग की रिपोर्ट को आगामी विधानसभा के पटल पर रखा जाएगा.. रिपोर्ट के सार्वजनिक होने पर कैलाश विजयवर्गीय के खिलाफ कांग्रेस को बड़ा मुद्दा मिल जाएगा। 

क्या है इंदौर के पेंशन घोटाला मामला

-कैलाश विजयवर्गीय के महापौर कार्यकाल में हुआ घोटाला, -पेंशन घोटाले की जांच के लिए 2008 में आयोग का हुआ गठनजांच आयोग ने 2012 में सरकार को सौपी रिपोर्ट, -सरकार ने जांच आयोग की रिपोर्ट के परीक्षण के लिए तत्कालीन सरकार ने तीन सदस्यीय मंत्रियों की कमेटी बनाई, -कमेटी की कई बार बैठक हुई, -लेकिन कोई फैसला नही हुआ

/ Madhya_Pradesh      Apr 14 ,2019 14:49