गोंड नायिका जमोला और नायक बदरू केंद्र में, लमझना का हुआ मंचन / Madhya_Pradesh

गोंड नायिका जमोला और नायक बदरू केंद्र में, लमझना का हुआ मंचन

@lionnews.in

भोपाल| मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में नवीन रंगप्रयोगों के प्रदर्शन की साप्ताहिक श्रृंखला 'अभिनयन' में आज ज्योति दुबे के निर्देशन में नाटक 'लमझना' का मंचन संग्रहालय सभागार में हुआ| 

इस नाटक के केंद्र में गोंड नायिका जमोला और नायक बदरू है| गोंड जनजाति की जीवन शैली, परम्पराओं, देवता, अनुष्ठान और मिथकों को निर्देशक ज्योति दुबे ने बड़ी ही खूबसूरती से नाट्य रूप में गुम्फित किया है| इस नाटक में जमोला और बदरू के मिलने से लेकर उनके विवाह होने और आगे के जीवन को कलाकारों  ने अपने अभिनय कौशल से दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत किया| नाटक की शुरुआत में पृथ्वी की उत्पति, जीव जगत की सृष्टि, देवलोक की स्थापना आदि को कलाकारों ने प्रस्तुत किया| इसके बाद जमोला और बदरू के माध्यम से आदिवासी जीवन और उनके संघर्षों को प्रस्तुत किया गया| इस नाटक में जहाँ एक ओर जमोला और बदरू की प्रेमकथा है, वहीँ दूसरी और जनजातीय जीवन के संघर्ष और उसके बाद भी सार्थक सकारात्मकता से परिपूर्ण जनजातीय समाज का मानस देखने को मिला| नाटक के अंत में कलाकारों ने अपने अभिनय कौशल से गोंड जनजाति के मृत्यु और उसके बाद के संस्कारों और मान्यताओं को मंच पर प्रस्तुत कर सभी दर्शकों को भाव से भर दिया| नाट्य प्रस्तुति के दौरान कलाकारों ने सैला और करमा नृत्य भी प्रस्तुत किया|      

नाट्य प्रस्तुति के दौरान मंच पर जैकी भवसार, लता सांगड़े, शुभांकर, कुसुम शास्त्री, विभा परमार, शिवम, आशीष यादव और नितिन प्रेमनाथ आदि कलाकारों ने मंच पर अपने अभिनय कौशल से सभागार में मौजूद दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया| प्रस्तुति के दौरान संगतकारों में मांदल पर स्तानिस और मिलमन ने, गुदुमबाजा पर नितिन ने, हारमोनियम पर रविलाल ने और ढोलक पर जीत ने संगत की| प्रस्तुति के दौरान प्रकाश परिकल्पना में तानाजी में, संगीत एवं ध्वनि में मुकुल त्रिपाठी, रवि लाल सांगड़े, रुपेश तिवारी और अजय श्रीवास्तव ने सहयोग किया| इस नाटक का निर्देशन ज्योति दुबे ने किया है| ज्योति दुबे कई वर्षों से रंग कर्म के क्षेत्र से जुड़े हैं| ज्योति दुबे ने कई नाटकों में अभिनय करने के साथ ही साथ कई नाटकों का निर्देशन भी किया है| प्रस्तुति के दौरान कई बार दर्शकों ने कालतल ध्वनि से कलाकारों का उत्साह वर्धन किया|

/ Madhya_Pradesh      Feb 01 ,2019 15:59