दमोह बनेगा नगरनिगम एवं खुलेगा मेडिकल कॉलेज- जयंत मलैया Damoh / Madhya_Pradesh

दमोह बनेगा नगरनिगम एवं खुलेगा मेडिकल कॉलेज- जयंत मलैया

दमोह। मध्यप्रदेश में पिछले तीन बार से लगातार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बन रही है। चौथी बार भी जनता का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए हम चुनाव मैदान में उतरे हैं। मध्यप्रदेश का ये चुनाव और 2019 को लोकसभा चुनाव भाजपा की स्पष्टता और कांग्रेस की दुविधा के बीच होगा। यह बात दिल्ली भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने सोमवार को दमोह में मीडिया से चर्चा के दौरान कही। मध्यप्रदेश सरकार के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते बताया कि शहर में नए पार्कों का निर्माण, सौंदर्यकरण के कार्य, स्वास्थ्य की और बेहतर सुविधा हो जिला चिकित्सालय दमोह मे डॉक्टर की पदस्थापना, कानून व्यवस्था सख्त जिन स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं वहां पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे, दमोह में छोटे-छोटे बच्चों को खेलने के लिए झूले और पार्क का निर्माण,2022 तक सबको रहने के लिए मकान और आने वाले 2 वर्षों में नया बस स्टैंड बनकर तैयार हो जाएगा दमोह के पास के गांवों को शामिल कर दमोह को नगर निगम बनाएंगे हर गरीब परिवार के लिए पक्का मकान बनाएंगे बांदकपुर एवं कुंडलपुर को धार्मिक क्षेत्र घोषित करेंगे, दमोह में मेडिकल कॉलेज खोलेंगे घोषणा अनुसार, खेत खेत में पानी पहुंचा करें कृषि में नंबर 1 बनाएंगे कृषि आधारित उद्योग लगाएंगे,फ्रूट पार्क बनाएंगे लघु और कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देंगे, दमोह को पर्यटन क्षेत्र के नक्शे में विकसित करेंगे और रोजगार के साधन बढ़ाएंगे, गांव में प्रतिदिन फिल्टर का पानी घर घर तक पहुंचाएंगे, गांव में खेल मैदान और जिम बनाएंगे व स्ट्रीट लाइट लगाएंगे, क्रिकेट स्टेडियम इंडोर स्टेडियम रनिंग ट्रैक एवं स्विंग पुल बनाएंगे, पुराने बस स्टैंड पर शहीद भगत सिंह स्मारक पार्क बनाएंगे, जिला जेल को शहर के बाहर ले जायेंगे और उस भूमि पर जनता के सुझाव पर नए प्रयोजन करेंगे, बाजार में नए पार्किंग स्थल और महिलाओं के लिए शौचालय का निर्माण कराएंगे, सघन वृक्षारोपण कर दमोह को सुंदर बनायेंगे, केएन कालेज में ऑडियोटोरियम एवं गर्ल्स हॉस्टल बनाएंगे। भाजपा जिला अध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव ने पत्रकार वार्ता में कहा कि कांग्रेस आज देश की ऐसी पार्टी है, जो अनेक दुविधाओं से घिरी है। अन्य पार्टियों से गठबंधन कैसे किया जाये, यदि गठबंधन हो गया तो राहुल गांधी साथी दलों को नेता के रूप मे कैसे स्वीकार होंगे, जैसी दुविधाओं में घिरी हुई है कांग्रेस। यदि इन बातों को छोड़ भी दें तो सबसे बड़ी दुविधा उनके नेता की छवि को लेकर है। कांग्रेस के नेता इस दुविधा में हैं कि राहुल गांधी को किस रूप में प्रोजेक्ट किया जाये। वर्षों तक कांग्रेस ने राहुल गांधी को एक धर्मनिरपेक्ष नेता के रूप में प्रस्तुत किया। फिर उन्हें लगा कि हिन्दू देश में बहुसंख्यक हैं, तो उन्होंने उनकी छवि हिन्दू नेता के रूप में बनाने पर विचार किया। राहुल गांधी ने संसद के पटल पर भी बोलते हुए कहा कि मैं हिंन्दू हूँ। इस पर भी बात नहीं बनी तो उन्हें लगा कि आस्थावान हिन्दू की छवि बनाना चाहिये,तो उन्होंने कैलाश मानसरोवर की यात्रा की, शिवमंदिरों में पूजा की और शिवभक्त की छवि बनाई। राहुल जी जब मध्यप्रदेश आये तो यहां लगा कि महाकाल के साथ पीताम्बरा पीठ की भी मान्यता है, तो वहां भी गए। वह शैव भी बने और शाक्य भी बन गये। फिर लगा कि हिन्दू तो बन गये पर उसमें किस जाति के बनें- दलित या सवर्ण। इन सब के बाद भी उन्हें लगा कि दूसरा वोट बैंक न खिसक जाये, तो आरएसएस की आलोचना करने लगे। इतनी सारी दुविधा इतने पुराने संगठन को अपने अध्यक्ष को लेकर है। पत्रकार वार्ता का संचालन भाजपा जिला मीडिया प्रभारी मनीष तिवारी व आभार भाजपा सह मीडिया प्रभारी मोन्टी रैकवार के द्वारा व्यक्त किया गया। उक्त जानकारी भाजपा जिला मीडिया प्रभारी मनीष तिवारी व जिला सह मीडिया प्रभारी मोन्टी रैकवार के द्वारा दी गई है। इस दौरान प्रमुख रूप से मध्य प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री जयंत मलैया,भाजपा जिला अध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव,भाजपा जिला महामंत्री रमन खत्री,विवेक चतुर्वेदी,राजेश द्विवेदी, युवा नेता सिद्धार्थ मलैया,भाजपा नगर अध्यक्ष बृज गर्ग,मीडिया प्रभारी मनीष तिवारी, जिला सह मीडिया मोन्टी रैकवार, विशाल शिवहरे,रितेश सोनी,रिंकू गोस्वामी सहित प्रमुख कार्यकर्ताओं की मौजूदगी रही।
Damoh / Madhya_Pradesh      Nov 19 ,2018 15:14