CM के गृह जिले में प्रदर्शन, मुख्यमंत्री पर लगे वादाखिलाफी के आरोप, हुआ आरपीएफ और जीआरपी का खुफिया तंत्र फेल / Madhya_Pradesh

CM के गृह जिले में प्रदर्शन, मुख्यमंत्री पर लगे वादाखिलाफी के आरोप, हुआ आरपीएफ और जीआरपी का खुफिया तंत्र फेल

@lionnews.in

विदिशा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज के गृह जिले में एमपी और महाराष्ट्र से आए चिटफंड कंपनियों के सैकड़ों निवेशकों और उनके एजेंटों ने विदिशा पहुंचकर इन कंपनियों में फंसे अपने रुपए वापस दिलाने की मांग को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इन प्रदर्शनकारियों ने रेल की पटरियों पर लेट कर प्रदर्शन किया। इनमें पुरुषों के साथ बड़ी संख्या में महिलाएं थीं। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री पर वादाखिलाफी के आरोप भी लगाये।

इन प्रदर्शनकारियों ने एक रैली के रूप में ओवरब्रिज से होते हुए नीमताल गांधी चौक पहुंचे। रास्ते में दोनों तरफ जाम लगाया। यहां प्रदर्शनकारियों ने मानव श्रृंखला बनाकर पूरे चौराहे को घेर लिया। हाइवे पर जाम लगा रहा। इसके बाद 3 बजे रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर पहुंचे और प्रदर्शन करते हुए पटरियों पर लेट गए। इस प्रदर्शन में पुरुषों के साथ बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं। सूत्र के अनुसार विदिशा आने और प्रदर्शन की जानकारी कोतवाली और थाना पुलिस को थी लेकिन आरपीएफ और जीआरपी का खुफिया तंत्र पूरी तरह से फेल रहा।   सैकड़ों प्रदर्शनकारियों द्वारा रेल पटरी तक पहुंचकर प्रदर्शन करने से जिला प्रशासन और रेलवे प्रशासन के अधिकारियों के भी हाथ.पांव फूल गए थे। आरपीएफ और जीआरपी के जवान जहां घटना की जानकारी मोबाइल से अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दे रहे थेए वहीं स्टेशन प्रबंधक आरके श्रीवास्तव ने भी सहायक मंडल रेल प्रबंधक परिचालन प्रिंस विक्रम सिंह को इसकी जानकारी दी।  सर्वहित महाकल्याण वेलफेयर फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अंशुल राय ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से उनके संगठन के प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने बाढ़ वाले गणेश मंदिर पर जाकर मुलाकात की थी। उन्होंने 3 दिन में उनकी समस्या का निराकरण कराने का आश्वासन दिया था। लेकिन मुख्यमंत्री ने संगठन के साथ वादाखिलाफी की है।

/ Madhya_Pradesh      Oct 04 ,2018 04:50