केंद्र ने दी मंजूरी इंदौर.भोपाल को मेट्रोए 4 साल में लगेगी दौड़ने / Madhya_Pradesh

केंद्र ने दी मंजूरी इंदौर.भोपाल को मेट्रोए 4 साल में लगेगी दौड़ने

@lionnews.in

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश को केंन्द्र सरकार ने मेट्रो रेल का रास्ता साफ कर दिया है। केंद्र सरकार ने भोपाल और इंदौर इन दोनों शहरों में मेट्रो रेल परियोजना को मंजूरी दे दी है। मध्य प्रदेश में विधान सभा चुनाव है। ठीक उसे पहले चुनावी साल होने के चलते प्रदेश की जनता को यह बड़ा तोहफा  होगा। मेट्रो रेल परियोजना पर आने वाली कुल लागत में केंद्र व राज्य सरकार की हिस्सेदारी बराबर बराबर होगी।

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंत्रिमंडल के फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने ष्एमपी मेट्रो रेल परियोजनाष् के मसौदे को मंजूरी दी है। भोपाल में प्रस्तावित मेट्रो रेल परियोजना पर कुल 6941 करोड़ रुपये की लागत आएगी। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कुल 27.87 किमी लंबाई में मेट्रो चलेगी। इसमें दो कारिडोर होंगे, जिसमें पहला करोंद सर्कल से एम्स तक जाएगा। इसकी लंबाई 14.99 किमी होगी। जबकि दूसरा कारिडोर भदभदा स्क्वायर से रत्नागिरी तिराहा तक जाएगा। इसकी लंबाई 12.88 किमी होगी। माना जा रहा है कि इन परियोजनाओं के पूरा होने से शहर के सभी प्रमुख हिस्से परस्पर जुड़ जाएंगे।

पहले 14.99 किमी लंबाई के कारिडोर पर कुल 16 स्टेशन बनाए जाएंगे। इनमें दो स्टेशन अंडर ग्राउंड होंगे और बाकी 14 एलिवेटेड बनाए जाएंगे। वहीं दूसरे 12.88 किमी लंबाई के कारिडोर पर 14 स्टेशन होंगे, जो एलिवेटेड होंगे। प्रदेश का दूसरे बड़े शहर इंदौर में भी मेट्रो रेल चलाने के प्रस्ताव को केंद्र सरकार ने हरी झंडी दिखा दी है। इंदौर में 31 किमी लंबी मेट्रो रेल से पूरा शहर जुड़ जाएगा। इस पर कुल 7500 करोड़ रुपये की लागत आएगी। यह परियोजना रिंग लाइन बनेगी, जिसमें बंगाली स्क्वायर, विजयनगर, भंवरकुआं, एयरपोर्ट, पलासिया से फिर बंगाली स्क्वायर पहुंचेगी। इस रिंग लाइन मेट्रो पर कुल 30 स्टेशन बनाए जाएंगे। इससे इन शहरों की आंतरिक यातायात प्रणाली पूरी तरह मजबूत हो जाएगी। यह परियोजना भी चार वर्षों में पूरी की जाएगी।

/ Madhya_Pradesh      Oct 03 ,2018 16:30