शिवराज सिंह की तारीफ करते हुए सांसद ने बकी गाली, मुस्कुराते रहे सीएम / Madhya_Pradesh

शिवराज सिंह की तारीफ करते हुए सांसद ने बकी गाली, मुस्कुराते रहे सीएम

@lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश में सांसद मंच से अपने नेता की तारीफ में बोलते हुए गाली बक गयें। बात पिछले दिनों की है जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की जन आशीर्वाद यात्रा बुरहान और खंडवा पहुची थी। उस दौरान एक आम सभा को संबोधित करते हुए पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी के मौजूदा सांसद नंदकुमार चैहान ने शिवराज सिंह चैहान की तारीफ करते-करते विरोधियों के लिए अपशब्द का इस्तेमाल कर गए। इसका एक वीडियों सोशल मीडिया सहित कई चैनलों पर प्रसारित हुआ है। 

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने जैसे ही मुंह से अपशब्द निकाला तो मंच पर बैठे सीएम शिवराज की भाव-भंगिमा ऐसी रही कि जैसे वह कह रहे हों- अरे जनाब यह क्या बोल दिया! शिवराज ने झटके से सिर झुकाया और चेहरे पर हाथ लगाकर मुस्करा दिए। इस वाकये का वीडियो  Sanjay duby नाम के यूट्यूब ने साझा किया गया है। बता दें कि मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं, इसलिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी चुनाव से पहले जनता में इस भरोसे की टोह लेना चाहती है कि विगत वर्षों में राज्य में सरकार के द्वारा किए गए कामों से वह कितनी संतुष्ट है। इसी के साथ चैथे कार्यकाल के लिए शिवराज सरकार जनता के आर्शीवाद की उम्मीद कर रही है। पिछले दिनों शिवराज की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान उनके रथ पर पत्थर और चप्पल फेंकने की घटनाएं दर्ज की गईं। शिवराज को काले झंडे दिखाने की भी घटनाएं हुईं। इन्हीं घटनाओं का जिक्र करते हुए बीजेपी सांसद विरोधियों के लिए अपशब्द का इस्तेमाल कर गए।

बीते (3 सितंबर) को शिवराज ने ऐसी घटनाओं को अंजाम देने वालों को कांग्रेस पार्टी का बताया था। शिवराज ने मीडिया से यहां तक कहा था, ”कांग्रेस मेरे खून की प्यासी हो गई है। एमपी की राजनीति में ऐसा कभी नहीं हुआ। विचारों का संघर्ष चलता था, अलग-अलग पार्टियां अपने-अपने कार्यक्रम करती थीं लेकिन कभी ये नहीं हुआ।उन्होंने कहा था, ”मैं सोनिया गांधी, राहुल गांधी और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से पूछना चाहता हूं कि वे कांग्रेस के किस दिशा में ले जाना चाहते हैं? उनका नेतृत्व और कार्यकर्ता जो कर रहे हैं क्या वह ठीक है?” शिवराज ने ये बातें बीते रविवार (2 सितंबर) की चुरहुट की घटना को लेकर कही थीं।

बीते (3 सितंबर) को शिवराज ने ऐसी घटनाओं को अंजाम देने वालों को कांग्रेस पार्टी का बताया था। शिवराज ने मीडिया से यहां तक कहा था, कांग्रेस मेरे खून की प्यासी हो गई है। एमपी की राजनीति में ऐसा कभी नहीं हुआ। विचारों का संघर्ष चलता था, अलग-अलग पार्टियां अपने-अपने कार्यक्रम करती थीं लेकिन कभी ये नहीं हुआ। / Madhya_Pradesh      Sep 07 ,2018 23:15