स्कूल शिक्षा मंत्री के गृह जिले में पढ़ाने के लिए दिहाड़ी पर रख ली महिला Bhopal / Madhya_Pradesh

स्कूल शिक्षा मंत्री के गृह जिले में पढ़ाने के लिए दिहाड़ी पर रख ली महिला

@lionnews.in

भोपाल। मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह के गृह जिला खण्डवा में शिक्षक दिवस एक मजाक बन कर रह गया। जहा इस मौके पर अकसर काबिल और कामयाब शिक्षकों की मिसाल पेश की जाती है, तो वहंी स्कूल शिक्षा मंत्री के क्षेत्र में शिक्षा व्यवस्था की हालत पूरे प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल रही है। खंडवा जिले का एक स्कूल यहां दो शिक्षिकाओं ने दैनिक मजदूरी पर एक महिला को पढ़ाने के लिए रखा है और असली शिक्षिका खुद घर पर आराम फरमा रही हैं।

Read More: -  स्कूल शिक्षा मंत्री के गृह जिले में पढ़ाने के लिए दिहाड़ी पर रख ली महिला

Read More: -  बंद के लिए PHQ सतक, कि शांति की अपील

मध्य प्रदेश के सरकारी विभाग इन दिनों भगवान भरोसे है। इसका सीधा अधाहरण खंडवा जिले के आदिवासी अंचल खालवा का मेहलू गांव से मिलता है। यह गांव प्रदेश के शिक्षा मंत्री विजय शाह के विधानसभा क्षेत्र में आता है। यहां के प्राथमिक विद्यालय में बच्चों की शिक्षण व्यवस्था किसके भरोसे है। आप स्वयं ही समझ जायेगे। दरअसल खंडवा जिला मुख्यालय से 90 किमी दूर इस स्कूल में करीब 67 बच्चे हैं, जिन्हें पढ़ाने के लिए दो शिक्षिकाएं पदस्थ हैं. ये दोनों शिक्षिकाएं सुदूर आदिवासी अंचल होने के कारण स्कूल ही नहीं आती हैं. यहां बच्चे स्कूल आते तो हैं, लेकिन बस्ता अंदर रखकर स्कूल के बाहर खेलकर अपना समय बिताने को मजबूर होते हैं.

 

Bhopal / Madhya_Pradesh      Sep 05 ,2018 16:34