मुख्यमंत्री जी पाठशाला में शराब तो है लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं यह कैसी प्रशासनिक व्यवस्था Damoh / Madhya_Pradesh

मुख्यमंत्री जी पाठशाला में शराब तो है लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं यह कैसी प्रशासनिक व्यवस्था

पथरिया - आज नगर की विभिन्न सामाजिक संस्थाओं और नागरिकों ने एक ज्ञापन तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम सौंपा है जिसके अनुसार नगर में आए दिन प्रकाश में आ रही सामाजिक घटनाओं को दर्शाते हुए भारी विरोध प्रदर्शन किया गया है और बताया गया है कि यह कैसी प्रशासनिक व्यवस्था है जहां पाठशाला में शराब तो है लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं होने के कारण एक महिला की जान चली जाती है गोचर भूमि में अवैध कब्जा जमाया जाता है ज्ञापन में बताया गया है कि जब एक महिला घायल होती है तो उसे अस्पताल तक जिस 108 वाहन से लाया जाता है उसमें ऑक्सीजन नहीं एवं अस्पताल पहुंचने पर भी अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं मिलती बाद में उसे दमोह रेफर कर दिया जाता है और रास्ते में ही उसकी मौत हो जाती है पाठशाला में मधुशाला चलाई जा रही थी जिसका भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों ने खुलासा किया। लेकिन आए दिन ऐसी घटनाएं प्रकाश में क्यों आ रही हैं और ऐसे में क्या एक अच्छे समाज का निर्माण हो सकेगा क्या हमारी आने वाली पीढ़ी एक अच्छे नागरिक बन सकेंगे इन सब बातों को लेकर सामाजिक संगठनों ने तहसीलदार के समक्ष अपनी बात रखी एवं चेतावनी भी दी कि यदि यह सब समय रहते नहीं रोका गया तो हम सभी एक आंदोलन के लिए भी तैयार हैं ज्ञापन सौंपने वालों में दिलीप पटेल अंकित पटेल विजय तिवारी सुदेश चौरसिया गंगाराम पटेल यशवंत सहित दर्जनों की संख्या में नगर के लोगों की उपस्थिति रही। में शराब तो है लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं यह कैसी प्रशासनिक व्यवस्था पथरिया - आज नगर की विभिन्न सामाजिक संस्थाओं और नागरिकों ने एक ज्ञापन तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम सौंपा है जिसके अनुसार नगर में आए दिन प्रकाश में आ रही सामाजिक घटनाओं को दर्शाते हुए भारी विरोध प्रदर्शन किया गया है और बताया गया है कि यह कैसी प्रशासनिक व्यवस्था है जहां पाठशाला में शराब तो है लेकिन अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं होने के कारण एक महिला की जान चली जाती है गोचर भूमि में अवैध कब्जा जमाया जाता है ज्ञापन में बताया गया है कि जब एक महिला घायल होती है तो उसे अस्पताल तक जिस 108 वाहन से लाया जाता है उसमें ऑक्सीजन नहीं एवं अस्पताल पहुंचने पर भी अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं मिलती बाद में उसे दमोह रेफर कर दिया जाता है और रास्ते में ही उसकी मौत हो जाती है पाठशाला में मधुशाला चलाई जा रही थी जिसका भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों ने खुलासा किया। लेकिन आए दिन ऐसी घटनाएं प्रकाश में क्यों आ रही हैं और ऐसे में क्या एक अच्छे समाज का निर्माण हो सकेगा क्या हमारी आने वाली पीढ़ी एक अच्छे नागरिक बन सकेंगे इन सब बातों को लेकर सामाजिक संगठनों ने तहसीलदार के समक्ष अपनी बात रखी एवं चेतावनी भी दी कि यदि यह सब समय रहते नहीं रोका गया तो हम सभी एक आंदोलन के लिए भी तैयार हैं ज्ञापन सौंपने वालों में दिलीप पटेल अंकित पटेल विजय तिवारी सुदेश चौरसिया गंगाराम पटेल यशवंत सहित दर्जनों की संख्या में नगर के लोगों की उपस्थिति रही।
Damoh / Madhya_Pradesh      Jul 10 ,2018 16:36