कोंचिग करानें की शिकायत प्राप्त होती है तो होगी अनुशासनात्मक कार्यवाही-कलेक्टर Damoh / Madhya_Pradesh

कोंचिग करानें की शिकायत प्राप्त होती है तो होगी अनुशासनात्मक कार्यवाही-कलेक्टर

दमोह: नया शिक्षण सत्र प्रांरभ हो गया है। कतिपय लोगों द्वारा शिकायतें प्राप्त हो रही है कि शासकीय शिक्षकों द्वारा विद्यालय में अध्यापन कार्य सुचारू रूप से न कर निजी कोंचिग सेंटर/ट्यूशन सेंटर खोलकर अवैध रूप से छात्र/ छात्राओं को मजबूर कर मनमानी राशि वसूल कर निजी कोंचिग कराई जाती है, जो शासकीय सेवा के अनुरूप नहीं है। यह शिक्षा के प्रति लापरवाही कदाचरण की श्रेणी में आता है। कलेक्टर डाॅ. जे विजय कुमार ने जिला शिक्षा अधिकारी से कहा है अपनें अधीनस्थ शिक्षकों/ व्याख्याताओं को निर्देशित करे कि इस प्रकार का कार्य न करें इससे छात्र/छात्राओं व अभिभावकों का किसी प्रकार से शोषण होता है। यदि आपके अधीनस्थ किसी शिक्षक/व्याख्याता की कोंचिग करानें की शिकायत प्राप्त होती है तो सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के अंतर्गत अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उनके विरूद्ध कार्यवाही करे जिससे निजी कोंचिग सेंटरों पर रोक लग सके और छात्र/छात्राओं अभिभावको को शोषण का शिकार न होना पडे़। आप अपनें आधीनस्थ शिक्षक/ व्याख्याता स्टाफ से इस आशय का शपथ पत्र भी प्राप्त कर करे कि मेरे द्वारा किसी प्रकार का कोई कोंचिग/ट्यूशन सेंटर नही खोला गया है और न किसी छात्र-छात्राओं को ट्यूशन कराई जा रही है और यदि मेरे विरूद्ध कोई शिकायत प्राप्त होती है तो सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के अंतर्गत अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाये जिसके लिए में स्वंय उत्तरदायी रहूॅगा।
Damoh / Madhya_Pradesh      Jul 03 ,2018 14:30