CM के गृह जिले की कहानी, खरीदी केंद्र पर रुपए नहीं दिए तो रिजेक्ट किया किसान का चना,  ट्रॉली लेकर जा पहुंचा कलेक्टरेट / Madhya_Pradesh

CM के गृह जिले की कहानी, खरीदी केंद्र पर रुपए नहीं दिए तो रिजेक्ट किया किसान का चना, ट्रॉली लेकर जा पहुंचा कलेक्टरेट

@lionnews.in

जयन्त मूले, विदिशा। मध्यप्रदेश का किसान परेशान है। आलम यह है कि मंड़ी में उपज बैचने के लिये किसान से दो हजार तक की मांटी राशि देनी पड़ रही है। उसे ठगा जा रहा है। ताजा मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के गृह जिले विदिशा का है। जहा केंद्रों पर किसानों से रुपए वसूलने के आरोपों का सिलसिला अभी तक थमा नहीं है।

137 कर्मचारियों का वेतन गायब, DFO ने लिखा कलेक्टर, बैंक सहित कोषालय को पत्र

कांग्रेस को नहीं था प्रणव मुखर्जी पर भरोसा, रुख आरएसएस की ओर क्यो ?

5 जून को वल्लभ भवन का घेराव करेगी ये महिला. . .

कल्पना पीसीसी के सामने जलायेंगी मीनाक्षी का पुतला, आपस में ठनी

 

रेल यात्रियों के लिए खुशखबरीए अब वेटिंग ई- टिकट वाले कर सकेंगे सफर

विकासखंड के गांव ठर्र के किसान उमाशंकर जब ट्राली लेकर नई मंडी स्थित खरीदी केंद्र पर पहुंचे तो उनका चने दूसरी बार रिजेक्ट कर दिया गया। किसान का आरोप है कि सर्वेयर चने को एफएक्यू बताने के लिए दो हजार रुपए मांग रहा था। जब उमाशंकर ने मांगी गये दो हजार रूप्ए नहीं दिए तो सैंपल फेल कर दिया। इससे नाराज किसान उपज से भरी ट्रॉली लेकर कलेक्टरेट जा पहुचा। कलेक्टोरेट कार्यालय के सामने किसान ने अपनी ट्राली खड़ी की तो अफसर आनन.फानन में किसान से चर्चा करने बाहर आए। एसडीएम रविशंकर राय और जिला आपूर्ति अधिकारी मोहन मारू ने किसान से चर्चा की। इस दौरान कलेक्टोरेट में ट्रॉली खड़ी रही। अफसरों की समझाइश के बाद किसान लौट गया। किसान का कहना था कि अब वह अपनी उपज खरीदी केंद्र की बजाय और कहीं बेचेगा।

/ Madhya_Pradesh      Jun 05 ,2018 03:59