कर्नाटक में फ्लोर टेस्ट, JDS-कांग्रेस करेंगे नंबर साबित / delhi

कर्नाटक में फ्लोर टेस्ट, JDS-कांग्रेस करेंगे नंबर साबित

नई दिल्ली। कर्नाटक में नाटक का अंतिम दृष्य हाsने जा रहा है। जिसमें शुक्रवार का दिन बहुत ही अहम है, जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के बाद विधान सौदा में अपने नंबर साबित करेंगे. बता दें कि 224 सीटों वाली विधानसभा में 222 सीटों पर चुनाव हुए है उस लिहाज से मैजिक नंबर 112 होता है. साथ ही फ़्लोर टेस्ट से पहले स्पीकर को भी चुना जाएगा. सरकार बनाने से चूकने के बाद भारतीय जनता पार्टी अब भी सक्रिय है. वह हर कदम पर एक नया दांव खेलने के लिए तैयार है. इसी क्रम में बीजेपी ने अपने विधायक सुरेश कुमार को विधानसभा स्पीकर पद के लिए उतारा है. वहीं, कांग्रसे के के आर रमेश कुमार ने भी विधानसभा स्पीकर पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया. अमूमन यह देखने में आया है कि ज्यादातर सत्ता पक्ष को ही स्पीकर का पद मिलता है क्योंकि सदन का बहुमत उस पार्टी के पास होता है.

धानसभा सीटों में से 222 सीटों पर हुए चुनाव में किसी एक पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है. बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 37 सीटें और अन्य को दो सीटें मिली हैं. कांग्रेस ने कर्नाटक में बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए 37 विधायकों वाली जेडीएस को राज्य में सरकार बनाने के लिए अपना समर्थन दिया है. इसके पीछे कांग्रेस का तर्क है कि उसने लोकतंत्र और संविधान की रक्षा के लिए इस तरह का कदम उठाया है. कांग्रेस और जेडीएस का नंबर मिला ले तो 115 (-कुमारसामी 1 सीट) होता है और 2 निर्दलीय विधायक भी साथ में है. ऐसे में कांग्रेस के पास 117 विधायकों का समर्थन है. जबकि बीजेपी के पास 104 विधायक है. विधानसभा 12.15 बजे बुलाई गई है जहां प्रोटेम स्पीकर पहले स्पीकर के चुनाव कराएंगे जो कि 1 घंटे के भीतर खत्म हो जाएंगे. लंच के बाद करीब 3.30 बजे ट्रस्ट मोशन पेश किया जाएगा. जिसमे जेडीएस-कांग्रेस को अपने नंबर साबित करने होंगे. इससे पहले बीजेपी के पास जरूरी संख्या नहीं होने के कारण मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने 19 मई की शाम को शक्ति परीक्षण से पहले ही इस्तीफा दे दिया था, इससे पहले वह 100 फीसदी बहुमत साबित करने की बात कहते रहे.

इसके बाद राज्यपाल वजुभाई वाला ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के नेता कुमारस्वामी को सरकार बनाने का न्यौता दिया. उन्होंने बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राज्यपाल ने कुमारस्वामी को भी बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन दिए थेवि. बता दें कि इस शपथग्रहण समारोह में 14 विपक्षी दलों के नेताओं ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराकर 2019 आम चुनाव के मद्देनजर मोदी विरोधी मोर्चे की तैयारियों की झलक पेश की.

/ delhi      May 24 ,2018 18:27