दलित विरोधी है भाजपा सरकार, नहीं होने दे रही भारत बंद के दौरान गिरफ्तार लोगों की जमानत / Madhya_Pradesh

दलित विरोधी है भाजपा सरकार, नहीं होने दे रही भारत बंद के दौरान गिरफ्तार लोगों की जमानत

@lionnews.in

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेन्द्र चौधरी ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया है कि सरकार दलित विरोधी है। उन्होंने कहा है कि सरकार भारत बंद आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किये गये एक हजार लोगों की जमानत नहीं होने दे रही। सरकार के अड़ंगे के कारण ग्वालियर-चंबल संभाग के लोगों में आक्रोश व्याप्त है। 

अनुसूचित जाति-जनजाति एक्ट के बदलाव के विरोध में दलित वर्ग द्वारा भारत बंद का आयोजन पिछलें महिनों में किया गया था। इस दौरान दलित संगठनों ने भारत बंद भी किया था। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में हुई हिंसा में कुछ जाने भी चली गई। सुरेन्द्र  ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने वहां अपने दोरे के दौरान कोई संवेदनशीलता नहीं दिखाई। चौधरी कहते है कि सरकार द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में बरती जा रही भेदभावपूर्ण नीति और लापरवाही पर सवाल खड़े किये हैं। उन्होंने कहा कि भारत बंद की घोषणा के पूर्व शासन को आगाह किया गया था।

इसे भी पढ़े :-

मध्य प्रदेश में 200 पति हर महीने पिटते हैं अपनी पत्नियों सेसबसे अव्वल है इंदौर

मंत्री दीपक जोशी ने कहा - मनवांछित रिजल्ट नहीं आने पर विद्यार्थी नहीं हों निराश

पोषण पर तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला आज से भोपाल मेंकेन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर करेगें शुभारंभ

 

कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे को अपनी मांगों को लेकर अध्यापक सौंपेंगे ज्ञापन

लेकिन जानबूझकर आंदोलन को हिंसक बनाने के लिए सरकार और प्रशासन ने समय रहते खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट पर ध्यान नहीं दिया। आरएसएस और बजरंग दल के लोगों ने आंदोलनकारियों की वेशभूषा मंे रहकर हिंसा को अंजाम दिया। हत्या जैसे एक ही अपराध के लिए पुलिस ने अलग-अलग धाराओं में प्रकरण दर्ज किये। 

सुरेन्द्र चौधरी  ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मारे गये बेगुनाहों के परिवारों को न्याय दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि आरएसएस और बजरंग दल के लोगों द्वारा फैलायी गई हिंसा में प्रशासन की भूमिका और कार्यप्रणाली भेदभावपूर्ण व संदिग्ध है। डबरा विधायक इमरती देवी द्वारा इन लोगों के दोहरे चरित्र को लेकर बनाये गये फुटेज सोशल पर भी वायरल हुए हैं। मृतकों के परिजनों की अनुपस्थिति में आधी रात को अंतिम संस्कार कर दिया गया। यह हिन्दु सभ्यता और संस्कृति के विरूद्व अमानवीय, शर्मनाक और घिनौना कृत्य है।

/ Madhya_Pradesh      May 13 ,2018 16:47