विधवा के स्थान पर अब कहा जाएगा कल्याणी Sivni / Madhya_Pradesh

विधवा के स्थान पर अब कहा जाएगा कल्याणी

विधवा के स्थान पर अब कहा जाएगा कल्याणी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के साथ अब प्रदेश स्तर पर मुख्यमंत्री विधवा विवाह योजना भी प्रारंभ करने की भी घोषणा की है। घोषणा के फलस्वरूप प्रदेश की विधवाओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने तथा शासकीय योजनाओं का लाभ देने के लिए शासकीय शब्दावली में उन्हें आदेश जारी होने के दिनांक से विधवा के स्थान पर अब “कल्याणी” कहा जाएगा। साथ ही उक्त योजना को मुख्यमंत्री कल्याणी सहायता योजना के नाम से आरंभ करने की स्वीकृति भी प्रदान की गई है। योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए यह होनी चाहिए पात्रता मुख्यमंत्री कल्याणी सहायता योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए कल्याणी व कल्याणी का पति मप्र का मूल निवासी होना आवश्यक है। कल्याणी की न्यूनतम आयु 18 वर्ष या उससे अधिक हो तथा कल्याणी के पति की आयु 21 वर्ष या अधिक होनी चाहिए। कल्याणी के पूर्व पति का मृत्यु प्रमाण पत्र एवं कल्याणी द्वारा इस आशय का शपथ पत्र प्रस्तुत करना होगा कि मृत्यू प्रमाण पत्र के मृतक आवेदिका का पति है। कल्याणी को परिवार की पेंशन प्राप्त न हो रही हो। कल्याणी आयकरदाता न हो, इसके लिए कल्याणी को शपथ पत्र भी देना होगा। कल्याणी विवाह योजना के लिए सामूहिक विवाह में विवाह करने का बंधन नहीं होगा। कल्याणी के नाबालिग बच्चों के पालन पोषण की जवाबदारी विवाह उपरांत संयुक्त रूप से कल्याणी व उसके पति की होगी। कल्याणी को विवाह सहायता राशि 2 लाख रूपए उसके खाते में जमा की जाएगी। इसके अलावा कल्याणी की आर्थिक सुरक्षा के लिए 18 वर्ष से 79 वर्ष तक 300 रूपए प्रतिमाह तथा 80 वर्ष के पश्चात 500 रूपए प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी।
Sivni / Madhya_Pradesh      Apr 13 ,2018 15:09