एम्स नेत्रकांडए रिपोर्ट आने के बाद भी नहीं किया गया अस्पताल में ऑपरेशन चालू / chhattisgad

एम्स नेत्रकांडए रिपोर्ट आने के बाद भी नहीं किया गया अस्पताल में ऑपरेशन चालू

@lionnews.in

प्रमोद दुबे, रायपुर एम्स में नेत्रकांड की रिपोर्ट आ गई है। इसके बाद मोतियाबिंद की सर्जरी बंद कर ऑपरेशन थियेटर को सील कर दिया है। आप को बता दे माइक्रो बायोलॉजी विभाग ने ऑपरेशन के दौरान उपयोग की गई दवाओं सहित निडिल, सीरिंज, इंजेक्शन और सर्जरी में उपयोग सभी मशीनों की जांच रिपोर्ट अस्पताल प्रशासन को सौंप दी है। रिपोर्ट आने के बावजूद सर्जरी शुरू नहीं होन को लेकर अब इसको लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। 

एम्स में पिछले गुरुवार को शहर के अलग.अलग इलाकों के 5 मरीजों का मोतियाबिंद ऑपरेशन किया गया था। सर्जरी के बाद आंखों में संक्रमण हो गया। अस्पताल प्रशासन ने स्थिति नहीं संभलने पर मरीजों को छुट्‌टी दे दी। मरीजों के परिजन उन्हें इलाज के लिए एमजीएम अस्पताल ले गए। एम्स प्रबंधन ने संक्रमण फैलने के तत्काल बाद ऑपरेशन में उपयोग निडिलए सीरिंजए लैंसए टेबलेटए ड्रॉप्सए इंजेक्शन को जांच के लिए माइक्रो बायोलॉजी विभाग भेज दिया था। जांच के लिए कुल 51 सैंपल लिया गया था। इसमें ओटी में लगी मशीनों के अलावा वॉश बेसिनए पानी के सैंपल भी था। सभी की कल्चर जांच की गई। माइक्रो बायोलॉजी विभाग ने मंगलवार को सैंपल जांच की रिपोर्ट सौंप दी है। 

जांच रिपोर्ट के नतीजे उजागर नहीं किए जा रहे हैं। जांच कमेटी के चेयरमेन व डीन डॉण् एसपी धनेरिया का कहना है कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। उन्होंने नेत्र रोग विभाग के एचओडी डॉण् सोमेन मित्रा व एडिशनल प्रोफेसर डाॅण् लुब्ना खान काे निजी अस्पताल में भर्ती मरीजों को देखने भेजा था। डॉक्टरों ने चेयरमेन को बताया कि मरीजों की आंखों में सुधार हो रहा है। 

गौरतलब है कि पिछले गुरुवार को एम्स में रामकृष्ण सोनी 67, कुशाल सिंह 58, मानवेंद्र बनवाल 67, तिलक कोठारे 69 व योगेश पांडेय 67 के मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया गया था। ऑपरेशन सुबह 11 बजे से किया गया। शाम 4 बजे के बाद ही मरीजों ने आंख में दर्द की शिकायत कर दी थी, लेकिन डॉक्टरों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। ऑपरेशन के बाद दर्द होता है, कुछ देर में ठीक हो जाएगा कहकर मरीजों की बात टाल दी। जब शुक्रवार को आंख से पट्‌टी खोली गई तो आंखों में सूजन के साथ लालिमा थी। इसके बाद आनन-फानन में मरीजों का दूसरी बार ऑपरेशन किया गया। इसके बाद भी आंखों में कोई सुधार नहीं हुआ। 

/ chhattisgad      Apr 11 ,2018 04:17