दो साल में मिले 56 हजार कुपोषित बच्चे, नियंत्रण पर 30 करोड़ खर्च... कहा? / chhattisgad

दो साल में मिले 56 हजार कुपोषित बच्चे, नियंत्रण पर 30 करोड़ खर्च... कहा?

@lionnews.in
रायपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में दो साल में 56 हजार से अधिक कुपोषित बच्चों की पहचान की गई है। महिला एवं बाल विकास मंत्री रमशीला साहू ने विधानसभा में एक प्रश्न के लिखित जवाब में यह जानकारी दी है। इन दो वर्षों (वित्तीय वर्ष 2016-17 और 2017-18 ) में कुपोषण नियंत्रण पर करीब 30 करोड़ स्र्पए से अधिक खर्च किए गए हैं।

मंत्री ने विधानसभा में बताया है कि बस्तर जिले कुपोषण पर नियंत्रण के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों की सेवाओं व संबंधित विभागीय योजनाओं के माध्यम से विविध प्रयास किए जा रहे हैं। इनमें पूरक पोषण आहारए टीकाकरणए संदर्भ सेवाए स्वास्थ्य जांचए स्वास्य एवं पोषण शिक्षा के साथ मुख्यमंत्री बाल संदर्भ योजनाए महतारी जतन योजनाए मुख्यमंत्री अमृत योजनाए वजन त्योहार के अलावा सुपोषित बस्तर अभियान चलाया जा रहा है। यह सब जानकारी मंत्री रमशीला साहू ने कांग्रेस विधायक दीपक बैज के सवाल के जवाब में दी। कुपोषण के सबसे ज्यादा मामले बस्तर में ही मिल रहे हैं। पिछले साल वहां 7123 बच्चों की पहचान की गई थी। चालू वित्तीय वर्ष में 5425 की पहचान की गई है। कुपोषण की सबसे कम संख्या बस्तानार में है। वहां पिछले वित्तीय वर्ष में 1988 और इस बार 968 बच्चे मिले हैं। मंत्री ने बताया कि पिछले साल जिले में 18 करोड़ 41 लाख 97 हजार 633 और चालू वित्तीय वर्ष में 12 करोड़ 45 लाख 71 हजार 455 स्र्पए खर्च किए गए हैं।

/ chhattisgad      Feb 06 ,2018 16:28