आचार्य विद्यासागर मेडिकल कॉलेज, भोपाल की भूमि आवंटन में हुआ भ्रष्टाचार, कांग्र्रेस ने न्यायालय में प्रस्तुत किया परिवाद, लगाये मंत्री, IAS व IPS अधिकारियों पर साठगाठ के आरोप / Madhya_Pradesh

आचार्य विद्यासागर मेडिकल कॉलेज, भोपाल की भूमि आवंटन में हुआ भ्रष्टाचार, कांग्र्रेस ने न्यायालय में प्रस्तुत किया परिवाद, लगाये मंत्री, IAS व IPS अधिकारियों पर साठगाठ के आरोप

@lionnews.in
भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में  प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा ने  भोपाल जिला न्यायालय में प्रथम श्रेणी न्यायिक दण्डाधिकारी प्रकाश डामोर के समक्ष दस्तावेजी परिवाद प्रस्तुत कर आचार्य विद्यासागर मेडिकल कॉलेज के नाम पर लालघाटी स्थित राजीव गांधी प्रोद्योगिकी विश्व विद्यालय के पास की बेशकीमती नजूल भूमि खसरा क्र. 373/1/1/1 को राजनेताओं, वरिष्ठ IAS और IPS अधिकारियों के गठजोड़ से की गई गैरकानूनी ढंग से आवंटित कराने और इस प्रक्रिया में हुये धोखाधड़ी, घपले-घोटाले, भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश को लेकर भादवि की धारा 120 बी, 420, 465, 467, 468, 471 के तहत प्रकरण दर्ज करने का आग्रह किया है। न्यायालय ने प्रकरण पंजीयन के पूर्व परिवादी मिश्रा के कथन हेतु 20 अप्रैल, 18 की तिथि नियत की है।  श्री मिश्रा ने उक्त विषयक प्रमाणित शिकायत वर्ष-2011 में आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (EOW) में की थी, किन्तु मामला हाईप्रोफाईल होने की वजह से ईओडब्ल्यू ने    6 साल से अधिक का समय हो जाने के बाद आज तक जांच भी प्रारंभ नहीं की है। परिवाद में तत्कालीन आवास एवं पर्यावरण और वर्तमान वित्त मंत्री जयंत मलैया, वरिष्ठ आईएएस अधिकारीगण देवेन्द्र सिंघई, अनुराग जैन, वरिष्ठ आईपीएस अधिकारीगण आर.के. दिवाकर, पवन जैन, तत्कालीन उप सचिव, स्वास्थ्य, राजेश जैन को आरोपी बनाया गया है, जिन्होंने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर अरबों रू. की 25 एकड़ सरकारी भूमि कौडि़यों के भाव आवंटित करवाई है।

/ Madhya_Pradesh      Feb 06 ,2018 15:04