यहाँ होती है 12 बजे प्रार्थना, शिक्षक नदारद, छात्र परेशान Damoh / Madhya_Pradesh

यहाँ होती है 12 बजे प्रार्थना, शिक्षक नदारद, छात्र परेशान

पथरिया ( दमोह ) - पथरिया नगर से महज 4 किमी दूर ग्राम बांसाकला के शासकीय उच्च.माध्यमिक स्कूल में 399 छात्र-छात्राओं की संख्या है। जिन्हें 15 शिक्षक अध्यापन कार्य कराते हैं। प्राचार्य एस के कोष्टी सागर से अपडाउन करते है प्रतिदिन प्राचार्य कोष्टी की मनमानी से चलते स्कूल 12 बजे संचालित होता है स्कूल में 6 अतिथि शिक्षक है लेकिन कुछ 12 बजे स्कूल आते है और तीन बजे चले जाते है स्कूल की हाज़री रजिस्टर में वाइटनर का उपयोग किया जाता है छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होती है जिला शिक्षा अधिकारी स्वयं सागर से दमोह अप-डाउन करते हैं तो वही बासाकला हाई स्कूल प्राचार्य एस के कोष्टी भी सागर से ही बासाकला अप डाउन करते हैं जिसके चलते जिला शिक्षा अधिकारी एवं कोष्टी में मधुर संबंध होने के कारण बासाकला हाई स्कूल पर किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जाती तो वहीं दमोह से गनेश असाटी सहित अन्य शिक्षक भी अपडाऊन करते हैं जिला प्राचार्य द्वारा कक्षा 11 वीं एवं 12 वीं में पैसे लेकर दमोह जिले के अन्य तहसील एवं जिले के बाहर के स्कूलों के छात्रों का एडमिशन करवा लिये गये बासाकला सेंटर होने के कारण पास कराने की भी गारंटी ली इसकी शिकायत शिकायत शिक्षा अधिकारी के यहां भी की गई लेकिन अभी तक किसी प्रकार की कोई जांच नहीं की गई 11 बजे के बाद आते है शिक्षक--- कक्षा 9 वी की छात्रा शिवानी पाठक,फूलबाई पटेल,लक्ष्मी रजक ने बताया कि प्रतिदिन छात्र-छात्राओं को स्कूल में शिक्षकों का इंतजार करना पड़ता है भले ही शासन के नियम अनुसार 10:30 पर स्कूल खुलने का समय है लेकिन जिम्मेदार प्राचार्य की मनमानी के चलते स्कूल संचालित कराया जाता है हम लोग प्रतिदिन 10:30 बजे स्कूल आ जाते हैं लेकिन 12:00 बजे प्रार्थना होती है उसके बाद भी शिक्षक नहीं आते तो हम लोगों को खाली बैठना पड़ता है कक्षा 12वीं आर्ट के छात्र लखन पटेल,चतुर सिंह पटेल, देवेंद्र अहिरवार ने बताया कि टाइम टेबल में 12:00 बजे से अर्थशास्त्र का कालखंड संचालित होने का समय दिया है लेकिन अर्थशास्त्र के सर पर कभी समय पर नहीं आती जिसके कारण हम लोगों का सिलेबस पूरा नहीं हो रहा कभी टाइम टेबल के अनुसार कक्षा संचालित नहीं होती हैं शिक्षकों का जब मन चाहा तो क्लास में थोड़ी देर के लिए आ कर चले जाते हैं 12वीं आर्ट विषय में 87 छात्र छात्राएं है लेकिन कक्षा समय पर न लगने छात्र स्कूल नहीं आते हैं टीम दुवारा जायजा लिया गया तो 12:05 बजे पर केवल तीन छात्र ही कक्षा में बैठे थे उन्होंने बताया अर्थशास्त्र का कालखंड है एवं सर नहीं आए तो इंग्लिश पढ़ रहे ऐसा ही 1 मामला 12वीं बायोलॉजी की कक्षा में 4 छात्र मौजूद थे इस कक्षा में छात्रों को यह भी पता नहीं कि पहला पीरियड किसका है। स्कूल का समय 10.30 बजे तक है, लेकिन शिक्षक देरी से आने की वजह से दोपहर 12 बजे से छात्रों की क्लास शुरू की जाती है। जिसकी वजह से बच्चे स्कूल जाने में कतराते हैं। बड़ी आबादी वाले गांव में पहले से छात्र संख्या कम है। बुधवार को छुट्टी के बाद स्कूल में छात्रों की संख्या नगण्य रही। स्कूल में करीब 400 छात्र छात्रायें दर्ज है लेखों शिक्षकों की लापरवाही के चलते केवल 50 से 7 छात्र-छात्राएं ही स्कूल में मिली ही स्कूल में मिली छात्र छात्राओं ने बताया कि प्राचार्य की अप डाउन एवं एवं शिक्षकों की अनियमितता के चलते हम लोगों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है अभी तक किसी भी विषय का कोर्स पूरा नहीं हुआ है एवं परीक्षा होने को है ऐसी स्थिति में हम लोगों की पढ़ाई का जिम्मेदार कौन होगा।
Damoh / Madhya_Pradesh      Nov 09 ,2017 07:40