नोटबंदी से भैय्यू महाराज के सपने टूटे, संस्था की टूटी कमर / delhi

नोटबंदी से भैय्यू महाराज के सपने टूटे, संस्था की टूटी कमर

@lionnews.in
    भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ठीक एक साल पहलें 8 नवम्बर कों 500 रूपये व 1000 रूपये के नोट को पूरी तरह बंद कर दिया। नोटबंदी का फैसले का असर अब एक साल बाद दिखाई दे रहा है। जहा एक और पूरे देश में विकास रूका हैं। तो वहीं दुसरी तरफ बैराजगारी, निवेश देश में हो ही नही रहा है। ऐसे में  इंदौर के संत भैय्यू जी महाराज ने भी अपने सपनों को टूटने और उनकी संस्था की कमर टूटने की बात मीड़िया को बताई।

संत को बेचनी पड़ी अपनी जमीन
        एक दैनिक समाचार पत्र के रिपोर्टर के अनुसार नोटबंदी का झटका सूर्योदय को भी लगा है। सूर्योदय संस्था संत  भैय्यू जी महाराज के मार्ग दर्शन में विकास कर रही है। जिसका विकास अभी थमा सा है। संस्था को मदद करनेवाले दानवीर लोगों ने अब हाथ खड़े कर दिये है। इसी वजह से संस्था के 2017 के जो संकल्प थे वह अब तक पूरे नही हो सके। काम अभी भी अधुरा है। आध्यात्मिक गुय संत भैय्यू जी महाराज ने खुलासा किया है कि उनके 2017 के जो संकल्प थे वह पूरे नहीं हो सके इनको पूरा करने के लिए संत को अपनी जमीन तक बेचनी पड़ी। संत का कहना है कि आश्रम के काम की काई पब्लिसिटी नहीं होने के चलते काम दिखाई नहीं देता। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री सहित अधिकारी वर्गों से अच्छा सहयोग मिल रहा है लेकिन पहलें नेता आर्शिवाद लेने खुब आते थें अब नहीं आते।

/ delhi      Nov 07 ,2017 15:16