✍️मैं स्वतंत्र पत्रकार हूँ...अनामिका अंबर Bhopal / Madhya_Pradesh

✍️मैं स्वतंत्र पत्रकार हूँ...अनामिका अंबर

सत्य अख्ज़ अग्यार हूं न भाई हूं न यार हूं, मत बांध मुझे इन रिश्तों में मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं । तुच्छता की बिसाद है तू अफ़ज़ल की औलाद है गर लड़ना तो खुलेआम लड़ो मेरा सीना फौलाद है, लेखनी की फनकार हूं मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं। तेरा न धर्म ,ईमान है तू तिमिर सुनसान है निष्काम दीप सी जलती मैं तेरी न कोई पहचान है कलम रूपी तलवार हूं मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं। तेरा खोखा खंजाली है मेरा लेखा प्रभावशाली है दुर्योधन बन तू जश्न मना मेरे भीतर पांचाली है, असत्य पर करती वार हूं मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं। न बाएं की मैं वामपंथी न दाएं की दक्षिण पंथी न हीं मुद्दा-ए-खास हूं हूँ जुबान से कट्टरपंथी विपरीत धारा में बहती एक विचार हूं मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं। ये उस सत्ता का प्यादा है जिसका लिबास सादा है मेरे लालो शंखनाद करो हो रहा अब हद से ज्यादा है क्रांति की झंकार हूं मैं स्वतंत्र पत्रकार हूं। --- अनामिका अंबर (एम.जे, एम.फिल.) स्वतंत्र पत्रकार
Bhopal / Madhya_Pradesh      Sep 13 ,2017 11:27