फिर से शुरू होगा / Madhya_Pradesh

फिर से शुरू होगा "मेरा प्रण-मेरा शहर नंबर एक अभियान"

@lionnews.in

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान  ने कहा कि प्रदेश के सभी शहरों में मेरा प्रण-मेरा शहर नंबर एक अभियान फिर से शुरू किया जाये। शहरों के हर गली-मोहल्ले में स्वच्छता की अलख जगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस आगामी 17 सितम्बर से यह अभियान शुरू किया जाये। स्वच्छता हमारे जीवन का अंग बनें इसका मिशन चलायें। लोगों को स्वच्छता के लिये जागरूक करें। शहरों में फेरी वालों के लिये हॉकर्स कॉर्नर बनायें। शहरी क्षेत्रों में गरीब फेरीवालों से वसूली की व्यवस्था नहीं चलेगी। सभी नगरीय निकायों में भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चलायें। नागरिक सेवाओं की व्यवस्थाओं का सरलीकरण किया जाये। गरीबों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध करायें। पन्नी बिनने वाले बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था सभी नगरीय निकाय करें। स्वच्छ सर्वेक्षण–2017 में हासिल उपलब्धियाँ समाज की मानसिकता में परिवर्तन का परिणाम हैं। इसके लिये सभी नगरीय निकायों ने परिश्रम किया हैं। टीम मध्यप्रदेश की इस उपलब्धि पर हमें गर्व है। अब चुनौती है कि स्वच्छता सर्वे-2018 में हमारे अधिक से अधिक नगरीय निकाय सफल हों। इसकी तैयारी शुरू करें। विचार से संकल्प, संकल्प से दृढ़ निश्चय फिर कठोर परिश्रम से संकल्प साकार होता है। अब प्रतिस्पर्धा मध्यप्रदेश के शहरों में हो कि कौन देश में सबसे स्वच्छ शहर बनेगा। मुख्यमंत्री स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 ‘नगरों को स्वच्छ बनाने की पहल’ कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।

नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री माया सिंह ने कहा है कि स्वच्छता राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। नागरिकों को बेहतर सेवा देना लक्ष्य है। स्वच्छ सर्वे में मूल्यांकन नागरिकों के द्वारा किया जाता है। उन्होंने सभी नगरीय निकायों के प्रयासों की सराहना की और कहा कि अगले स्वच्छ सर्वे – 2018 में और बेहतर परिणाम लायें।

प्रमुख सचिव नगरीय विकास मलय श्रीवास्तव ने कहा कि स्वच्छ सर्वे – 2018 आगामी 4 जनवरी से होगा। इसके लिये सभी शहर अभी से प्रयास करें। इंदौर देश के दूसरे शहरों के लिये स्वच्छता के क्षेत्र में उदाहरण बना है। आयुक्त नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल ने स्वागत भाषण देते हुये कहा कि नगरीय विकास स्वच्छता में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकाय अगले स्वच्छ सर्वे में पहले 500 में रहेंगे।

/ Madhya_Pradesh      Sep 07 ,2017 13:34