वह परिवार सौभाग्यशाली होता है जिस घर में  मातृभूमि के भक्त एवं शक्तिसाधक का जन्म होता है समाज में एक नवीन विचारधारा का संचार कर रहा है : अजय योगभारती Sagar / Madhya_Pradesh

वह परिवार सौभाग्यशाली होता है जिस घर में मातृभूमि के भक्त एवं शक्तिसाधक का जन्म होता है समाज में एक नवीन विचारधारा का संचार कर रहा है : अजय योगभारती

सागर - परम सौभाग्य होता है उस परिवार का जिस परिवार में मातृभूमि के भक्त एवं शक्ति साधक का जन्म होता है। आज भगवती मानव कल्याण संगठन के लाखों कार्यकर्ता समाज को आत्मकल्याण, जनकल्याण एवं राष्ट्रहित के लिए प्रेरित कर रहे है, जिससे समाज में एक नवीन विचारधारा का संचार हो रहा है। यह उद्बोधन भगवती मानव कल्याण संगठन के केन्द्रीय महासचिव एवं भारतीय शक्तिचेतना पार्टी के महासचिव सिद्धाश्रम रत्न श्री अजय योगभारती जी ने चल रहे अखण्ड श्री दुर्गाचालीसा पाठ तहसील राहतगढ़ एवं सागर में समापन की बेला में व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि आज समाज में जिस प्रकार स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है उसी प्रकार मानव में मानव मूल्यों की स्थापना कर स्वच्छ मानव अभियान भगवती मानव कल्याण संगठन चला रहा है, जिसका उद्देश्य केवल समाज कल्याण की भावना को लेकर चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि परमहंस योगीराज श्री शक्तिपुत्र जी महराज के मार्गदर्शन में जो जनजागरण देश-विदेश में चल रहा है उसके परिणाम आज प्रत्यक्ष दृष्टिगोचर हो रहे है। भारत व विष्व का एकमात्र स्थान जहां पर पिछले 20वर्षों से अखण्ड श्री दुर्गाचालीसा पाठ अनंतकाल के लिए चल रहा है जिसके प्रभाव से आज गुरूवर द्वारा समाज कल्याण के लिए प्रदत्त तीनों विचारधाराओं को ऊर्जा प्राप्त हो रही है एवं धर्मरक्षा, मानवता की सेवा व राष्ट्ररक्षा के अपने मानवीय दायित्वों को पूर्ण किया जा रहा है। गुरूवर श्री ने कहा कि हमारे देष के अनेकों वीर आजादी की लड़ाई में शहीद हो गये तब कहीं जाकर हमको स्वतंत्रता प्राप्त हुई, लेकिन हमारे समाज का जो मानवीय पतन हुआ है उसके लिए आज आवश्यक हो गया है कि हमें अपने त्याग, पुरूस्वार्थ एवं कर्मबल से पुनः मानवीय मूल्यों की स्थापना करनी होगी। जिसके लिए अपने धर्म की रक्षा, मानवता की सेवा एवं राष्ट्ररक्षा के लिए एक संकल्पित विचारधारा की आवष्यकता है, जो मैंने प्रदान की है। जिससे विश्व में पुनः सत्यधर्म की स्थापना कर अमन चैन स्थापित किया जा सके। जिसके लिए गुरूवर श्री ने पंचज्योति शक्ति सिद्धाश्रम धाम धर्म के लिए एवं भगवती मानव कल्याण संगठन, समाज कल्याण के लिए व भारतीय शक्तिचेतना पार्टी राष्ट्ररक्षा के लिए गठन किया गया है, तीनों विचारधाराओं का मूल उद्देश्य समाज को नशामुक्त,मांसाहारमुक्त एवं चरित्रवान बनाते हुए अपनी धर्मरक्षा, राष्ट्ररक्षा एवं मानवता की सेवा के उद्देश््यों की पूर्ति की जा सके। श्री अजय योगभारती जी ने कहा कि श्री दुर्गाचालीसा पाठ एवं मॉ की आरती के माध्यम से सागर जिले की सभी तहसीलों में इन कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है जिसमें शाहगढ़, बण्डा, राहतगढ़ एवं सागर में उपस्थित हजारों की संख्या में लोंगो ने नशामुक्त, मासांहारमुक्त एवं चरित्रवान जीवन जीने का संकल्प लिया एवं आगामी कार्यक्रम केसली एवं देवरी में आयोजित किये जावेंगे। समापन की बेला में उपस्थित संगठन के कार्यकर्ताओं एवं उपस्थित मॉं के भक्तों ने शक्तिजल एवं प्रसाद पाकर मॉ एवं गुरूवर का आशीर्वाद प्राप्त किया
Sagar / Madhya_Pradesh      Jul 15 ,2017 11:40