सोयाबीन की कटाई करने जाते है इसलिए रिजल्ट हुआ खराब / Madhya_Pradesh

सोयाबीन की कटाई करने जाते है इसलिए रिजल्ट हुआ खराब

lionnews.in / लॉयन न्यूज … वामनपोटे, बैतूल भोपाल। मध्यप्रदेश के बैतूल जिला इन दिनों कलेक्टर साहब से लोग खुश भी है और परेशान भी। खुश जनता है और परिशान सरकारी अधिकारी और कर्मचारी। अपनी छापामार कार्यवाही आकस्मिक निरीक्षण करने की छवि बना चुके कलेक्टर साहब ने चूनालोमा हाई स्कूल का अचानक निरीक्षण किया। स्कूल में 10वी में 53 बच्चे दर्ज थे लेकिन बीते वर्ष जिसमे से सिर्फ 8 बच्चे ही पास हो सके है। इधर कलेक्टर ने शिक्षक कुलदीप मानेकर से पूछा कि रिजल्ट क्यो कम आया शिक्षक का जवाब था ज्यादातर स्कूली बच्चे सोयाबीन की फसल की कटाई में चले जाते है। और स्कूल नही आते इसलिए स्कूल का रिजल्ट खराब है। इधर कलेक्टर ने दसवीं कक्षा के हर बच्चे से स्कूल के समय मे कटाई पर जाने की बात पूछी तो किसी ने भी नही कहा कि सोयाबीन कटाई के लिए जाते है। हालात बद से बदतर है। शिक्षा का स्तर दिन व दिन गावो में गिरते ही जा रहा है इस हाई स्कूल में इस वर्ष 75 विद्यार्थी 10 वी में दर्ज वही 9 वी कक्षा 86 विद्यार्थी दर्ज है ।कलेक्टर बच्चों से कई सवाल किये पर जवाब कोई भी विद्यार्थी नही दे पाए। बुधवार को कलेक्टर शशांक मिश्र ने जहा सुबह की शुरुआत ताप्ती नदी किनारे बसे सिमोरी ग्राम पंचायत से की और फिर रातमाटी ग्राम पंचायत और चूनालोमा पंचायत में भी निरीक्षण किया इसके बाद चूनालोमा हाईस्कूल का निरीक्षण किया। अब शिक्षको खिलाफ क्या कार्यवाही होती है ये तो अभी पता नही चल सका है इस हाई स्कूल में चार शिक्षक पदस्थ है पर दो ही उपस्थित पाए गए।कलेक्टर शशांक मिश्र ने यूनीवार्ता को बताया कि हाई स्कूल चूनालोमा का आज आकस्मिक निरीक्षण किया है इस स्कूल का 10 वी कक्षा रिजल्ट बेहद खराब था इसी के चलते निरीक्षण किया है। शिक्षक बच्चों के स्कूल नही आने के झूठे बहाने बनाते है।
/ Madhya_Pradesh      Jul 12 ,2017 14:47