आखिर क्योंं भेजे अरूण जेटली के कार्यालय डाक से सेनिटरी पैड / delhi

आखिर क्योंं भेजे अरूण जेटली के कार्यालय डाक से सेनिटरी पैड

lionnews.in / लॉयन न्यूज … नयी दिल्ली। माल एवं सेवा कर याने GST का विरोध अब देश के तमाम शहरों में दिखाई दे रहा है। एक एनजीओं की महिला कार्यकताओं ने महिलाओं के लिए बेहद जरूरी सेनिटरी पैड पर माल एवं सेवा कर वापस लेने की मांग करते हुए देश के वित्त मंत्री अरूण जेटली के कार्यालय में सेनिटरी नेपकिन डाक से भेजे हैं। ताजा जानकारी के अनुसार "ब्लीडविदाउट फियर" लिखे हुए पैकेटस आल इंडिया डेमोक्रेटिक वुमेन्स एसोसिएशन और एसएफआई के कार्यकर्ताओं ने डाक द्वारा अरूण जेटली के कार्यालय में भेजे है। इन पैंकेटस में सेनिटरी नैपकिन है। इसका एक वीडियों वायरल हुआ है। जिसे खुब देखा जा रहा है। इस वीडियों में दिल्ली विविद्यालय की छात्र तथा एसएफआई कार्यकर्ता अनुराधा कुमारी ने सेनिटरी पैड पर अनुचित कर लगाने के खिलाफ देश भर की महिलाओं को केंद्रीय मंत्री के कार्यालय डाक से सेनिटरी नैपकिन भेजने का कल अनुरोध किया था। आप को बता दे कि सेनिटरी पैड पर 12 प्रतिशत की दर से GST लगेगा। इससे पहले की प्रणाली में यह दर 13.7 प्रतिशत थी। स्टुडेंट फेडरेशन आफ इंडिया (दिल्ली) के अध्यक्ष विकास भदुरिया ने कहा, सेनिटरी पैड को लग्जरी सामान माना जाता है और उसके अनुसार कर लगाया जाता है जबकि वास्तविकता यह है कि यह महिलाओं के स्वस्थ्य जीवन के लिये अनिवार्य है। अधिक कीमत से गरीब महिलाएं और लड़कियां सेनिटरी पैड के उपयोग को लेकर हतोत्साहित होंगी।
/ delhi      Jul 12 ,2017 04:37