राज बब्बर ने क्यो छोड़ दिया था घर...आप भी जाने Delhi / delhi

राज बब्बर ने क्यो छोड़ दिया था घर...आप भी जाने

lion news / लॉयन न्यूज

राज बब्बर भारतीय सिनेमा के एक ऐसे एक्टर हैं जिन्हें खलनायक और नायक दोनों के रूप में जाना जाता है. राज बब्बर को फिल्म इंडस्ट्री में नेम और फेम 1980 में रिलीज हुई फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ में निभाए उनके निगेटिव रोल से मिला. 1980 के दौर में राज बब्बर ऐसे एक्टर्स की लिस्ट में शुमार हुए जिन्हें उनके निभाए किरदारों के लिए पहचाना गया. राज बब्बर ने भारतीय सिनेमा में लगभग 200 फिल्मों में अभिनय किया.

        राज बब्बर का जन्म उत्तर प्रदेश के टूण्डला में 23 जून 1952 को एक हिंदू परिवार में हुआ. इनके दो भाई और चार बहनें हैं, जिसमें से यह सबसे बड़े हैं. राज बब्बर के छोटे भाई विनोद का देहांत कुछ वर्षों पहले हुआ था. इन्होंने अपने जीवन में दो शादी की. पहली 1975 में मशहूर थिएटर आर्टिस्ट और फिल्म निर्देशक नादिरा बब्बर की जबकि दूसरी शादी 1986 में फेमस फिल्म एक्ट्रेस स्मिता पाटिल से की. इनके आर्य बब्बर, जूही बब्बर और प्रतीक बब्बर तीन बच्चे हैं. जिसमें से आर्य और जूही नादिरा के बच्चे हैं, जबकि प्रतीक स्मिता पाटिल का बेटा है. जूही बब्बर ने कुछ फिल्मों में काम किया. इन्होंने अपने पिता की तरह दो शादियां की. पहली शादी इन्होंने 2007 में फिल्म निर्देशक और लेखक बिजॉय नाम्बियार से की जो महज दो साल ही चल सकी. इसके बाद जूही ने टीवी के मशहूर एक्टर अनूप सोनी से 2011 में शादी की.

 

rajbabbr10
                                                            जूही, अनूप सोनी, आर्य, नादिरा और राज बब्बर

राज बब्बर की तीनों बच्चे एक्टिंग की दुनिया में कदम रख चुके हैं. लेकिन तीनों में से कोई बॉलीवुड में अपनी पहचान नहीं बना सका. 2002 में फिल्म ‘अब के बरस’ से आर्य बब्बर ने फिल्मों में डेब्यू किया लेकिन यह फिल्म फ्लॉप साबित हुई. बॉलीवुड में सफल नहीं होने की वजह से आर्य ने टेलीविजन की ओर रुख किया. इन दिनों वह ‘संकट मोचक महाबली हनुमान’ में ‘रावण’ की भूमिका में नजर आ रहे हैं. वहीं जूही बब्बर ने भी बॉलीवुड में कुछ फिल्में की लेकिन अधिक समय तक इंडस्ट्री में टिक न पाने की वजह से जूही ने शादी के बाद फैशन डिजाइनिंग की ओर कदम बढ़ाया. और प्रतीक बब्बर इन दिनों फिल्मों में अपना करियर बनाने की जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं. वह बॉलीवुड में कुछ फिल्मों में काम कर चुके हैं.

juhi-arya-preitek
                                                                         जूही, आर्य और प्रतीक बब्बर

 दो फेमस हस्तियों से कर चुके हैं निकाह

राज बब्बर की पहली पत्नी नादिरा बब्बर मशहूर नेता सैयद साजिद जहीर और उर्दू लेखिका रजिया साजिद जहीर की बेटी हैं. दूसरी पत्नी स्मिता पाटिल थी. वह एक मराठी परिवार से थीं. वह बॉलीवुड इंडस्ट्री में 1970–1980 के दौर की मशहूर एक्ट्रेस थीं. इनका देहांत 1986 में हुआ. इसी वर्ष इन्होंने राज बब्बर से शादी की थी. कहा जाता हैं कि स्मिता पाटिल ने बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म देने के दौरान ही दम तोड़ दिया था. स्मिता पाटिल के देहांत के बाद राज बब्बर अपनी पहली पत्नी नादिरा के साथ रहने लगे.

nadira
                                                                    नादिरा के साथ राज बब्बर

 स्मिता पाटिल से शादी के लिए घर तक छोड़ दिया था

1985 में बॉलीवुड की पद्मश्री विजेता अभिनेत्री स्मिता पाटिल से शादी करने के बारे में जैसे ही राज बब्बर ने अपने घर में चर्चा की उसके तुरंत बाद ही उनके माता-पिता ने इस बात पर एतराज जताते हुए घर और स्मिता पाटिल दोनों में से एक को चुनने के लिए कहा था. जिसमें राज बब्बर में स्मिता पाटिल को चुनते हुए अपना घर छोड़ दिया था. उस समय राज बब्बर की शादी फिल्म निर्देशक और थिएटर आर्टिस्ट नादिरा बब्बर से हो चुकी थी. उनके दो बच्चे भी थे. घर छोड़ने के कुछ महीने के बाद ही राज बब्बर ने 1986 में स्मिता पाटिल से शादी की.

raj-smita
                                                                             स्मिता पाटिल के साथ राज बब्बर

 शिक्षा

                राज बब्बर ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा आगरा के फैज-ए-आम स्कूल से की और ग्रेजुएशन आगरा कॉलेज से किया. एक्टिंग में रुचि होने की वजह से इन्होंने 1975 में दिल्ली आकर नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से दाखिला लिया. इन्होंने स्कूल और कॉलेज के नाटकों में हिस्सा लेकर बॉलीवुड की ओर रुख किया.

करियर

आगरा कॉलेज में पढ़ाई करते समय राज बब्बर ने सोच लिया था कि उनको अभिनय की दुनिया में अपना करियर बनाना है. इसके अलावा उनको समाजसेवा करके भी अद्भुत खुशी का एहसास होता था. इसलिए वह बॉलीवुड में अभिनय के दौरान ही राजनीति से जुड़े रहे. राज बब्बर ने अपने करियर में लगभग 200 फिल्मों में काम किया जिसमें पंजाबी और बॉलीवुड फिल्में शामिल हैं.

           अभिनय के लिए नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा ज्वॉइन करने से पहले राज बब्बर पटियाला यूनिवर्सिटी पहुंचे. वह विश्वविद्यालय के ड्रामा विभाग का हिस्सा बन गए और पूरी लगन के साथ इन्होंने वहां पर अभिनय सीखा. विश्वविद्यालय के अंदर ही इनकी मुलाकात मशहूर थिएटर लेखक हरपाल तिवाना से हुई. उन्होंने ही राज बब्बर को नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया था, क्योंकि वह खुद इस संस्थान से जुड़े हुए थे. इसके बाद राज बब्बर ने 1972 में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला लिया और इससे जुड़े. वहां पर हरपाल तिवाना पंजाब कला मंच नाम से एक थिएटर चलाया करते थे, जिससे मशहूर एक्टर ओम पुरी भी जुड़े हुए थे. यहीं पर राज बब्बर और ओम पुरी की पहली बार मुलाकात हुई. एन.एस.डी से जुड़ने के बाद राज बब्बर ने इब्राहिम अल्काजी को गुरू मानकर अभिनय की बारीकियां सीखी.

 

raj-ompuri
                                            ओम पुरी के साथ राज बब्बर

                               ‘किस्सा कुर्सी का’ से किया डेब्यू

राज बब्बर ने फिल्म 1977 में ‘किस्सा कुर्सी का’ से फिल्मी दुनिया में डेब्यू किया. इस फिल्म का निर्देशन अमृत नाहटा ने किया था. हालांकि इस फिल्म में इनका केमियो रोल ही था. इन्हें फिल्म इंडस्ट्री में पहचान 1980 में फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ से मिली. इसमें इन्होंने निगेटिव रोल प्ले किया था.

insaf-ka-taraju
                                           ‘इंसाफ का तराजू’ का पोस्टर

 

1989 में राजनीति से जुड़े

राज बब्बर ने 1989 में जनता दल से जुड़कर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की. इसके कुछ वर्षों बाद वह समाजवादी पार्टी से जुड़े और तीन बार सांसद चुने गए. 1994 से 1999 तक वह राज्यसभा सांसद थे. वह 14वें लोकसभा चुनाव में दूसरी बार 2004 में लोकसभा सांसद बने. 2006 में राज बब्बर को समाजवादी पार्टी से निकाल दिया गया था. इसके दो साल बाद 2008 में इन्होंने कांग्रेस पार्टी को ज्वाइन किया और 2009 में चौथी बार चुनाव लड़ा. 2014 में राज बब्बर ने गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव लड़ा, जिसमें वह बीजेपी नेता वी के सिंह से चुनाव हार गए.

RajBabbar8
                                                                      राज बब्बर

 

Delhi / delhi      May 31 ,2017 15:13