शास्त्रीय नृत्य और आख्यानपरक की प्रस्तुतियाँ 27 नवम्बर को bhopal / Madhya_Pradesh

शास्त्रीय नृत्य और आख्यानपरक की प्रस्तुतियाँ 27 नवम्बर को

लॉयन न्यूज / lion news

भोपाल। संस्कृति संचालनालय द्वारा प्रत्येक रविवार को मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में आयोजित की जाने वाली उत्तराधिकार की सभा में इस बार 27 नवम्बर को शास्त्रीय नृत्य और आख्यानपरक प्रस्तुतियाँ होगी। इसके अन्तर्गत एकल कथक के साथ-साथ यक्षगान देखना शहरवासियों के लिए एक नया अनुभव रहेगा।

इसे भी पढे़ :-

कांग्रेस ने पीओएस मशीनों में खराबी के चलते किया प्रदर्शन

भोज मुक्त विश्वविद्यालय का चतुर्थ दीक्षांत समारोह 02 दिसम्बर को

अब पुराना वाहन खरीदने पर भी देना होगा टैक्स  

कथक में इस बार लखनऊ घराना मुख्य आकर्षण रहेगा और इसके लिए इस घराने की प्रतिभाशाली गायिका एवं पण्डित बिरजू महाराज की शिष्या शिंजनी कुलकर्णी नई दिल्ली से आ रही है। कथक के संस्कार उनको बचपन से मिले हैं। वे महाराज जी की नातिन हैं और देश के अनेक कला मंचों के साथ साथ विदेशों में भी उनकी प्रस्तुति को सराहा गया है। शिंजनी कुलकर्णी ने देश-विदेश की सांस्कृतिक यात्राएँ एकल प्रस्तुति के साथ भी की हैं और पण्डित बिरजू महाराज की अनेक महत्वपूर्ण नृत्य रचनाओं में वे सहभागी रही हैं।

       कथक प्रस्तुति के पश्चात् यक्ष्रगान का आकर्षण इसलिए भी रहेगा क्योंकि भोपाल में इसकी प्रस्तुति एक लम्बे अरसे के बाद होने जा रही है और इसके लिए कर्नाटक से आ रहे कलाकार कैरेमने शिवानंद हेगड़े, यक्षगान परम्परा की गुणी शीर्षस्थ कलाकार स्वर्गीय शम्भू हेगड़े के सुपुत्र व शिष्य हैं जिनकी प्रतिष्ठा देश-विदेश में है। अनेक प्रतिष्ठित सम्मानांें से सम्मानित शिवानंद हेगड़े ने अनेक पौराणिक आख्यानों को पारम्परिक रूप से मंच पर समृद्ध कला स्वरूप में प्रस्तुत किया है। भोपाल में वे सीता हरण प्रसंग को यक्षगान शैली में सीतापाहरणा नाम से करने जा रहे हैं।

bhopal / Madhya_Pradesh      Nov 24 ,2016 14:21